बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र पेपर Child Development & Pedagogy Paper in Hindi

बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र पेपर Child Development & Pedagogy  Paper in Hindi:  बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र विषय का अध्ययन मध्य प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा और ctet के छात्रों को करना अनिवार्य होता है. मध्य प्रदेश माध्मिक शिक्षक पात्रता परीक्षा 2018 में बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र Child Development & Pedagogy 15 अंक तथा मध्य प्रदेश उच्च माध्मिक शिक्षक पात्रता परीक्षा 2018 में बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र Child Development & Pedagogy 30 अंक के प्रश्नों को शामिल किया जायेगा.



बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र का शारांश में सिलेबस इस प्रकार है.

  • बाल विकास
    • बाल विकास की अवधारणा एवं इसका अधिगम से संबंध.
    • विकास और विकास को प्रभावित करने वाले कारक.
    • बाल विकास के सिद्धांत.
    • बालकों का मानसिक स्वास्थ्य एवं व्यवहार संबधी समस्याएं.
    • वंशानुक्रम एवं वातावरण का प्रभाव
    • समाजीकरण प्रक्रियाए : सामाजिक जगत एवं बच्चे (शिक्षक, अभिभावक, साथी)
    • पियाजे, पावलाव, कोहलर और थार्नडाइक : रचना एवं आलोचनात्मक स्वरुप.
    • बुद्धि की रचना का आलोचनात्मक स्वरुप और उसका मापन, बहुआयामी बुद्धि.
    • व्यक्तित्व और उसका मापन.
    • भाषा और विचार.
    • सामाजिक निर्माण के रूप में जेंडर, जेंडर की भूमिका, लिंगभेद और शिक्षक प्रथाएँ.
    • अधिगम के लिए आंकलन और अधिगम का आंकलन में अंतर, शाला आधारित  आंकलन सतत एवं समग्र मुल्यांकन : स्वरूप और प्रथाएँ (मान्यताए)
  • समावेशित शिक्षा की अवधारणा एवं विशेष आवश्कता वाले बच्चों की समझ
    • अलाभान्वित एवं वंचित वर्गों सहित विविध प्रष्ठ्भूमियों के अधिगाम्कर्त्ताओं की पहचान.
    • अधिगम कठनाइयों, "क्षति" आदि से ग्रस्त बच्चों की आवश्यकताओं की पहचान.
    • प्रतिभावान, सर्जनात्मक, विशेष क्षमता वाले अधिगतकर्त्ताओ की पहचान.
    • समस्याग्रस्त बालक : पहचान एवं निदानात्मक पक्ष.
    • बाल अपराध : कारण एवं प्रकार 
  • अधिगम और शिक्षा शास्त्र (पेडागाजी)
    • बच्चे कैसे सोचते और सीखते है, बच्चे शाला प्रदर्शन में सफलता प्राप्त करने में क्यों और कैसे असफल होते है.
    • शिक्षण और अधिगम की मूलभूत प्रक्रियाएं, बच्चों के अधिगम की रणनीतियों, अधिगम एक सामाजिक प्रक्रिया के रूप में, अधिगम का सामाजिक सन्दर्भ.
    • समस्या समाधानकर्त्ता और वैज्ञानिक- अन्वेषक के रूप में बच्चा.
    • बच्चों में अधिगम की वैकल्पिक धारणाए, बच्चों की त्रुटियों को अधिगम प्रक्रिया में सार्थक कड़ी के रूप में समझना. अधिगम को प्रभावित करने वाले कारक : अवधान और रूचि.
    • संज्ञान और संवेग.
    • अभिप्रेरण और अधिगम
    • अधिगम में योगदान देने वाले कारक' - व्यक्तिगत और पर्यावरणीय 
    • निर्देशन और परामर्श
    • अभिक्षमता और उसका मापन 
    • स्मृति और विस्मृति  

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पत्रकार बीमा की बढ़ी हुई प्रीमियम की राशि का भुगतान मध्यप्रदेश सरकार करेगी : शिवराज