कोराेना के बहाने मुस्लिमों के उत्पीड़न को लेकर 101 पूर्व नौकरशाहों ने लिखी चिट्‌ठी


नई दिल्ली। 101 पूर्व नौकरशाहों ने राज्यों के मुख्यमंत्रियों को चिट्ठी लिखकर रोष प्रकट किया है कि देश के कुछ हिस्सों में मुसलमानों का 'उत्पीड़न' हो रहा है। उन्होंने पत्र में तबलीगी जमात के धार्मिक आयोजन को तो 'गुमराह और निंदनीय' बताया, लेकिन मीडिया के कुछ वर्ग पर मुसलमानों के खिलाफ विद्वेष भड़काने का आरोप लगाकर उसके काम को 'बिल्कुल गैर-जिम्मेदाराना और कलंकित' करार दे दिया। पत्र में कहा गया है, 'महामारी के कारण पैदा हुए डर और असुरक्षा को विभिन्न जगहों पर मुसलमानों को 'अलग-थलग करने' के प्रति मोड़ दिया गया ताकि शेष आबादी की सुरक्षा के नाम पर उन्हें सार्वजनिक स्थलों से दूर रख जा सके।' ये 101 पूर्व नौकरशाह पूरे देश और केंद्रीय सेवाओं से जुड़े हैं और देशभर से हैं। उनका दावा है कि 'वो किसी खास राजनीतिक विचारधारा से संबद्ध नहीं हैं, लेकिन भारतीय संविधान को प्रभावित करने वाले मुद्दों पर उनका ध्यान जरूर रहता है।' चिट्ठी लिखने वालों में पूर्व कैबिनेट सचिव केएम चंद्रशेखर, पूर्व आईपीएस ऑफिसर ए एस दुलत और जुलियो रिबेरो, पूर्व मुख्य सूचना आयुक्त वजाहत हबीबुल्लाह, दिल्ली के पूर्व लेफ्टिनेंट गवर्नर नजीब जंग और पूर्व मुख्य सूचना आयुक्त एस वाई कुरैशी शामिल हैं।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरकार बताए मुर्ति का साईज छोटा करने से कैसे रुकेगा कोरोना: जगवीर दास