आदेश नहीं मानने पर चला पुलिस का ठंडा


ग्वालियर। दो दिन किराने की खेरीज दुकानें खुलने की ढील मिलने के बाद तीसरे दिन मनाही के बाद भी सोमवार सुबह दाल बाजार में दुकान खुल गईं। बाजारों में जब दुकानें खुल गईं तो पुलिस ने लाठी के जोर पर इन्हें बंद कराया। उधर सब्जी खरीदने के लिए लोग सोशल डिस्टेंसिंग भूल गए। गोरखी में सब्जी खरीदने सैकड़ों लोग पहुंच गए। इन्हें रोकने के लिए यहां पुलिस तक नहीं थी। बता दें कि गोरखी सब्जी मंडी में केवल 5 थोक व्यापारी को सब्जी बेचने की परमिशन है। यहां सबसे खराब हालात रहे। पुलिस ने साेमवार को 216 लोगों के चालान बनाए।
विनय नगर में दुकान खोलकर बैठी महिला कुसुम कुशवाह पर एफआईआर दर्ज की गई। मोतीझील पर भी एक दुकान खुली थी, इसके चालक कमल जाटव पर बहोड़ापुर पुलिस ने एफआईआर दर्ज की। शिंदे की छावनी पर ऑटो पार्ट की दुकान चलाने वाला विनय गंगवानी सुबह दुकान खोलकर बैठ गया। पुलिस पहुंची तो उसके यहां गाड़ियां ठीक हो रही थीं। पुलिस ने उस पर भी एफआईआर दर्ज की। वहीं इंदरगंज में इलेक्ट्रॉनिक सामान की दुकान खुली थीं, इनका चालान काटा गया। इसी तरह ऊंट पुल पर कुछ गैर जरूरी सामान की दुकानें खुल गईं। इन पर कार्रवाई की गई। जबकि माधोगंज में सब्जी के ठेले लग गए इन पर सोशल डिस्टेंसिंग का उल्लंघन हो रहा था। वहीं महाराज बाड़े पर भी ठेले लग गए। इन पर पुलिस ने कार्रवाई की। इनके चालान काटे गए। चावड़ी बाजार, माेर बाजार में कुछ कपड़े अौर कॉस्मेटिक की दुकानों पर पुलिस ने कार्रवाई की।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरकार बताए मुर्ति का साईज छोटा करने से कैसे रुकेगा कोरोना: जगवीर दास