हाईकोर्ट ने कोविड योद्धा बनकर सेवा करने की शर्त पर दी जमानत


ग्वालियर। मप्र हाईकोर्ट की ग्वालियर बेंच अपने अनूठे आदेश के लिए चर्चा में रहती है। लंबे समय से ग्वालियर बेंच के आदेशों में उन तमाम चीजों को समाहित किया जा रहा है, जिससे न केवल समाज में सकारात्मक संदेश जाए, साथ ही आरोपी को सुधरने के मौका भी मिले और समाजसेवा कर वह फिर से मुख्यधारा में जुड़ सके। इसी क्रम में मप्र हाईकोर्ट की ग्वालियर बेंच ने जमानत के लिए शर्त रखी कि आरोपी बतौर कोविड-19 योद्धा (वारियर) अपना पंजीयन कराएगा और कलेक्टर ग्वालियर सभी प्रकार की सावधानियां बरतते हुए आपदा प्रबंधन में आरोपी को सेवा करने का अवसर प्रदान करेंगे।
दरअसल, ग्वालियर निवासी आकाश को मुरैना पुलिस ने 3 मार्च 2020 को गिरफ्तार किया था। उस पर फर्जी तरीके से किसी अन्य परीक्षार्थी के स्थान पर दसवीं की परीक्षा देने का आरोप है। सोमवार को हुई सुनवाई में सरकारी वकील ने कोर्ट को बताया कि आरोपी को बामौर पुलिस ने गिरफ्तार किया था। जिस छात्र के स्थान पर आरोपी ने परीक्षा दी थी, वह अभी तक फरार है।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरकार बताए मुर्ति का साईज छोटा करने से कैसे रुकेगा कोरोना: जगवीर दास