ग्रामीण विकास की योजनाओं का प्रभावी क्रियान्वयन हो : कलेक्टर


ग्वालियर। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत जिन हितग्राहियों को आवास उपलब्ध कराए गए हैं, उन्हें शासन की स्वरोजगार योजना से जोड़ते हुए लाभान्वित किया जाए। बरसात के पूर्व ग्रामीण क्षेत्रों में चल रहे सड़क निर्माण के कार्यों को पूर्ण किया जाए। कलेक्टर श्री कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने बुधवार को ग्रामीण विकास से संबंधित कार्यों की समीक्षा बैठक में यह निर्देश दिए हैं*।
ग्रामीण क्षेत्रों में कराए जा रहे विकास कार्यों की समीक्षा बैठक में सीईओ जिला पंचायत श्री शिवम वर्मा, अतिरिक्त मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री विजय दुबे सहित जिले के सभी जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी, जिला पंचायत ग्वालियर के नोडल अधिकारी एवं प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना और लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के कार्यपालन यंत्री उपस्थित थे।
कलेक्टर श्री कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने कहा कि संबल योजना के तहत प्रवासी श्रमिकों के पंजीयन का कार्य पूरी गंभीरता के साथ किया जाए। पंजीयन के पश्चात श्रमिकों को स्वरोजगार की योजनाओं से लाभान्वित भी किया जायेगा। उन्होंने ग्रामीण क्षेत्र में जल संवर्धन के कार्यों को हर पंचायत में शुरू करने के निर्देश भी दिए। नल-जल योजनाओं की समीक्षा कर सभी योजनायें चालू करने को कहा। बैठक में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत जो लक्ष्य निर्धारित है उसको पूरा करने के साथ हितग्राहियों को स्वरोजगार योजना से जोड़ने के निर्देश भी दिए।
कलेक्टर श्री सिंह ने बैठक में कहा कि नोवेल कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण ग्रामीण क्षेत्र में मध्यप्रदेश के अनेक श्रमिक अन्य प्रदेशों से लौटकर आए हैं। ऐसे सभी श्रमिकों को रोजगार उपलब्ध कराने हेतु मनरेगा के तहत अधिक से अधिक कार्य ग्रामीण क्षेत्र में प्रारंभ किए जाएं। सभी के जॉब कार्ड बनाकर उन्हें रोजगार उपलब्ध कराया जाए।
बैठक में प्रधानमंत्री सड़क योजना, पेयजल योजना, प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास मिशन, स्वच्छ भारत मिशन, मनरेगा, प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना, राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के साथ-साथ पंचायत भवनों एवं आंगनबाड़ी भवनों के निर्माण की समीक्षा की गई।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरकार बताए मुर्ति का साईज छोटा करने से कैसे रुकेगा कोरोना: जगवीर दास