मन्त्रिमण्डल विस्तार में फंसा पेंच,शिवराज- सिंधिया के दौरे टले

भोपाल। मध्य प्रदेश में 30 जून मंगलवार को मंत्रिमंडल का विस्तार हो सकता है। सोमवार को दिन भर ऐसी अटकलें लगतीं रही लेकिन पूरे दिंन चली सियासी कबायद का नतीजा ढाँक के तीन पात निकला और साफ हो गया कि पेच अभी फंसा हुआ है और मंगलवार को शिवराज मन्त्रिमण्डल का विस्तार नही होगा।
इस सिलसिले में सीएम शिवराज सिंह चौहान दिल्ली में भाजपा के आला नेताओं से मुलाकात करने पहुंचे । रविवार को वे प्रदेश अध्यक्ष बी डी शर्मा और प्रदेश के संगठन महामंत्री सुहास भगत के साथ दिल्ली पहुंचे । उंन्होने पहले राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से बात की । फिर गृहमंत्री अमित शाह से पहले अकेले और फिर सबके साथ भेंट कर लंबी चर्चा की । इसके बाद लगा कि मामला सुलट गया । मंगलवार को शपथ ग्रहण की अटकलें लगने लगीं । स्टेट गैरेज ने 26 नए मंत्रियों के लिए गाड़ियां तैयार कर ली । लेकिन फिर खबर आई कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें शाम चार बजे तलब किया है । इस बीच अचानक प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा भी अचानक दिल्ली पहुंच गए । सुबह बताया गया कि मंगलवार की सुबह नव निर्वाचित भाजपा के राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया दो दिन के दौरे पर भोपाल पहुंचेंगे और सोमवार की रात तक  ही प्रभारी राज्यपाल आनंदी वेन पटेल भी भोपाल पहुंचेंगी लेकिन शाम होते होते दोनों के कार्यक्रम रद्द हो गए ।
उधर तय कार्यक्रम से इतर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह अचानक ज्योतिरादित्य सिंधिया के आवास पर पहुंचे । इस मौके पर सिंधिया ने अपनी तरफ से सीएम सहायता कोष के लिए 30 लाख रुपये का चेक प्रदान किया ।लेकिन यह तो सिर्फ दिखाने का कार्यक्रम था। असल मे शिवराज ने यहां मन्त्रिमण्डल विस्तार की अड़चनों पर चर्चा की । सूत्रों की माने तो विभागों को लेकर भी आपस मे विवाद की स्थिति को टालने की कोशिश की गई ।
श्री सिंधिया से मिलने के बाद श्री सिंह एक बार फिर केंद्रीय मन्त्री नरेंद्र तोमर से मिलने उनके आवास पर पकहुँचे और दोनों के बीच एकांतवार्ता हुई फिर डॉ नरोत्तम मिश्रा के साथ भी शिवराज ने श्री तोमर से भेंट की । बाद में वे पीएम से मिले । पहले तय था कि पीएम से मिलकर शिवराज शाम को ही भोपाल लौट आएंगे लेकिन ऐसा हुआ नही । वे दिल्ली में ही रुक गए और देर रात तक नेताओं के साथ मंथन करते रहै । अब कहा जा रहा है कि वे सुबह भोपाल के लिए रवाना होंगे ।
इधर मन्त्री बनने की बात जोह रहे विधायको की धड़कने बढ़ती रही । सब अपने अपने स्तर पर पता लगाने में जुटे रहे कि सूची में उनका नाम है या नही ।
ग्वालियर चम्बल अंचल से सिंधिया समर्थक महेंद्र सीसोदिया ,प्रद्युम्न सिंह तोमर,इमरती देवी सुमन ,रणवीर जाटव और एदल सिंह कंसाना  का नाम तय है जबकि भाजपा की तरफ से अरविंद भदौरिया और भारत सिंह कुशवाह के नामो की चर्चा है ।


टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जयप्रकाश एवं आदित्य श्रीवास्तव अखिल भारतीय कायस्थ महासभा के प्रदेश सचिव मनोनीत