संकट मोचन मंदिर में एक महीने से निरंतर चल रहा हवन-यज्ञ

देश से कोरोना रूपी महामारी का प्रभु बालाजी सरकार करेंगे समूल नाश : जगवीर सिंह तोमर
ग्वालियर। गोलपाड़ा स्थिति संकट मोचन मंदिर में एक महीने से अनवरत हवन-यज्ञ का आयोजन किया जा रहा है। इसके साथ ही अखंड पाठ भी निरंतर चल रहा है। मंदिर में यह आयोजन देश से कोरोना रूपी महामारी के समूल नाश के लिए किये जा रहे हैं। उक्त जानकारी बालाजी सरकार के चरणसेवक जगवीर सिंह तोमर ने दी।
उन्होंने कहा कि भारत में संकट बनकर खड़ी हुई कोरोना रूपी महामारी को दूर करने के लिए हनुमान जी महाराज से प्रार्थना करते हुए संकट मोचन हनुमान बालाजी मंदिर परिसर में अनिश्चितकालीन निरंतर यज्ञ हवन किया जा रहा है अखंड रामायण का पाठ भी निरंतर जारी है प्रत्येक मंगलवार को फूल बंगला सजाया जा रहा है। इसके साथ ही प्रतिदिन शहर के लोग प्रभु बालाजी महाराज को सवा मन के प्रसाद से भोग भी लगवा रहे हैं। इसी क्रम में अमर सिंह राजावत नोएडा एचआर ध्यानेंद्र सिंह राजावत एचसीएल कंपनी राघवेंद्र सिंह राजावत एरा क्लासेस अमित शर्मा वीरेंद्र सिंह जनवार विनय नगर सेक्टर 3 द्वारा यज्ञ हवन में आहुतियां दी गईं। इससे पहले हनुमान जी महाराज की विधिवत पूजा-अर्चना की गई। हवन-यज्ञ यज्ञ आचार्य पंडित पीयूष शास्त्री द्वारा मंत्रों का उच्चारण किया जाता है। इस हवन-यज्ञ में शहर का कोई भी व्यक्ति नि:शुल्क रूप से पंजीयन कराकर नियत तिथि में शामिल हो सकता है। मंदिर में किसी भी प्रकार की कभी भी कोई दान दक्षिणा नहीं ली जाती है। मंदिर के चरण सेवक का उद्देश्य आमजन के मन में हनुमान जी महाराज के प्रति प्रेम और विश्वास बढ़ाकर सभी लोगों को खुशहाल स्थिति में देखना है। हर चेहरे पर हो मुस्कान, अंधविश्वास से दूर हो इंसान यही है यहां चरण सेवक के जीने का अरमान।
उन्होंने कहा कि कोरोना महामार के प्रारंभ के साथ ही संकट मोचन मंदिर समिति ने यह निर्णय लिया था कि प्रभु बालाजी सरकार से इस महामारी को दूर करने की प्रार्थना करनी चाहिए। इस कड़ी में पहले लॉकडाउन में अखंड रामायण पाठ का आयोजन किया गया। इसके बाद दूसरे लॉकडाउन में प्रतिदिन 1 हजार 101 बार हनुमान चालीसा के पाठ हुए। तीसरे लॉकडाउन में प्रतिदिन हवन-यज्ञ शुरू हुआ। इसके साथ चौथे लॉकडाउन में हवन-यज्ञ के साथ अखंड पाठ का भी आयोजन शुरू किया गया। अब यह हवन-यज्ञ और अखंड पाठ अनिश्चतकाल के अनवरत जारी है। चरण सेवक जगवीर सिंह तोमर की देखरेख में यह आयोजन तब तक जारी रहेगा जब तक कि प्रभु बालाजी सरकार देश से कोरोना रूपी महामारी का समूल नाश नहीं कर देते। इस आयोजन में मंदिर समिति के सदस्य केके अग्रवाल, जयराम सिंह यादव, चंद्रप्रकाश श्रीवास्तव, किशन सिंह तोमर, सुरेश गोयल, दीपक श्रीवास्तव, भूरे सिंह, दीपक श्रीवास्तव, राजेंद्र ठाकुर आदि की महत्वपूर्ण भूमिका है।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरकार बताए मुर्ति का साईज छोटा करने से कैसे रुकेगा कोरोना: जगवीर दास