गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ग्वालियर आये, प्रधुम्न और मुन्ना लाल से की चुनाव पर चर्चा


ग्वालियर। मध्य प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा रविवार को ग्वालियर आए और सिंधिया समर्थक नेता प्रधुम्न सिंह तोमर व पूर्व विधायक मुन्नालाल गोयल से मुलाकात की। सर्वप्रथम गृह मंत्री पूर्व विधायक मुन्नालाल गोयल के मुरार स्थित सरकारी आवास पर पहुचे, जहां उन्होंने गोयल समर्थकों तथा भाजपा नेताओं से परिचय प्राप्त किया। तदुपरांत चंद मिनटों में उनके आवास पर एकांत में मंत्रणा कर गंतव्य की ओर रवाना हो गए। इससे पहले सरकारी आवास पर पहुचने पर गृह मंत्री श्री मिश्रा की पूर्व विधायक मुन्नालाल गोयल ने आगवानी की। इसके बाद उन्हें शॉल पहनाकर व पुष्पगुच्छ भेंटकर उनका आत्मीय स्वागत किया। यहां से गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा का काफिला पूर्व मंत्री प्रधुम्न सिंह तोमर के रेसकोर्स रोड स्थित 38 नम्बर बंगला सरकारी आवास पर पहुचा। जहां उनकी आगवानी पूर्व मंत्री श्री तोमर ने की। यहां दोनों नेताओं के बीच करीबन आधा घण्टा बंद कमरे में गहन चर्चा की गई। इसके उपरांत दोनों नेता, श्री मिश्रा और श्री तोमर बाहर आये तो पत्रकारों ने उन्हें घेर लिया। पत्रकारों ने जब प्रधुम्न सिंह तोमर से बंद कमरे में हुई मुलाकात के बारे में जानना चाहा तो उन्होंने कहा कि गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा को चिंता है कि कोरोना संकट में गरीबों की मदद कैसे की जाए, कानून व्यवस्था कैसे सुदृढ़ हो, सगंठन कैसे मजबूत हो इन बिंदुओं पर चर्चा की गई और उन्होंने मार्गदर्शन भी किया। इस पर श्री तोमर ने उन्हें भरोसा दिलाया है कि उनकी चिंता हल करने की वे कोशिश करेंगे। पत्रकारों ने जब उपचुनाव में जीत के अंतर को लेकर प्रधुम्न सिंह तोमर से सवाल पूछा तो उन्होंने बड़े ही सधे हुए अंदाज में जबाब दिया कि फिलहाल कोरोना संकट से निपटना जरूरी है। पत्रकारों ने दोनों नेताओं की मुलाकात के दौरान लॉक डाउन के नियमों का पालन नहीं करने को लेकर जब सवाल दागा तो प्रधुम्न सिंह तोमर बोले ये आपका व्यक्तिगत मत है और अगर कोई उल्लंघन कर रहा है तो उसके लिए वे जिम्मेदार नहीं हैं। इस दौरान नरोत्तम मिश्रा समीप ही खड़े प्रधुम्न सिंह तोमर और पत्रकारों के बीच हो रही चर्चा गौर से सुन रहे थे। जब श्री मिश्रा ने प्रधुम्न सिंह तोमर को पत्रकारों के सवालों में उलझते देखा तो अपने चिर-परिचित अंदाज में माइक अपनी ओर करवा लिये। पत्रकारों ने नरोत्तम मिश्रा से उनकी मुलाकात को लेकर सवाल पूछा तो श्री मिश्रा ने सिंधिया को अपना अग्रज बताया और समर्थकों को अपना अनुज। उपचुनाव में प्रधुम्न सिंह तोमर की जीत के अंतर को लेकर उन्होंने कहा कि अब अंतर 30 हज़ार तक ले जाने की कोशिश होगी। ग्वालियर अंचल की सीटों पर जीत को लेकर नरोत्तम मिश्रा आश्वस्त नजर आए। एक सवाल के जबाब में उन्होंने कहा कि स्वाभाविक तौर पर भाजपा जीतेगी और जीत को लेकर कोई अनिश्चितता नहीं है। दिग्विजय सिंह की शिकायत के सवाल पर उन्होंने अनिभिज्ञता जताते हुए कहा कि जांच हो रही होगी, जांच के बिंदु सामने आने दीजिए। पत्रकारों ने जब श्री मिश्रा से कांग्रेस के विधायकों की खरीद फरोख्त के आरोप पर उनकी प्रतिक्रिया जाननी चाही तो उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि कांग्रेस क्या कहेगी, अपना घर बचा नहीं पाई, अपनी असफलता छुपाने के लिए यही बोलेगी। पत्रकारों ने जब गृह मंत्री से कांग्रेस के ज्योतिरादित्य सिंधिया को सम्मान नहीं मिलने के आरोप के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा कि कौन कह रहा है सम्मान नहीं मिल रहा है। भारतीय जनता पार्टी में किसका सम्मान हो रहा है किसका अपमान हो रहा है ये कांग्रेस तय करेगी क्या ? वे अपनी पार्टी का अपमान देखें, अपनी पार्टी की चिंता कर लें। अगर पार्टी की इतनी ही चिंता होती तो आज ये हश्र नहीं हुआ होता।
ग्वालियर भाजपा में गुटबाज़ी के सवाल को नरोत्तम मिश्रा ने सिरे से खारिज किया है। उनका कहना है कि भाजपा में कोई भी गुट नहीं है, सब भारतीय जनता पार्टी के हैं। बैनर पोस्टर पर सिंधिया की तस्वीर नहीं होने के सवाल पर नरोत्तम बोले ये तो होता रहता है। पत्रकारों ने जब ग्वालियर महानगर के भाजपा जिलाध्यक्ष कमल माखीजानी के हो रहे विरोध का जिक्र किया तब उन्होंने कहा कि कोई विरोध नहीं हो रहा है। कुलमिलाकर गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा संगठन का जो संदेश भोपाल से लेकर आये थे, वह सिंधिया समर्थक पूर्व मंत्री व पूर्व विधायक को दे गए हैं। खबर है कि दोपहर में गृह मंत्री श्री मिश्रा की डबरा में पूर्व मंत्री श्रीमती इमरती देवी सुमन से भी मुलाकात हुई है। क्योंकि उन्हीं का एक कथित ऑडियो वायरल होने के बाद संगठन ने उन्हें संदेश लेकर भोपाल से ग्वालियर भेजा था।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जयप्रकाश एवं आदित्य श्रीवास्तव अखिल भारतीय कायस्थ महासभा के प्रदेश सचिव मनोनीत