मंसूबे धराशायी : चीनी सैनिकों ने सीमा में घुसने की कोशिश की, भारतीय जाबांजों ने खदेड़ा


नई दिल्ली। भारतीय सेना ने पूर्वी लद्दाख में पैंगोंग सो के आसपास स्थित सभी 'रणनीतिक बिंदुओं' पर सैनिकों और हथियारों की तैनाती महत्वपूर्ण रूप से बढ़ा दी है। आधिकारिक सूत्रों ने सोमवार को बताया कि भारतीय सेना ने ऐसा पैंगोंग सो क्षेत्र में 'एकतरफा' यथास्थिति बदलने के चीन की सेना पीपल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) के असफल प्रयास के बाद किया। सूत्रों ने कहा कि सेना ने साथ ही पैंगोंग सो के दक्षिणी तट पर एक क्षेत्र पर अतिक्रमण करने के चीन की ताजा कोशिश को नाकाम करने के बाद पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) से लगे सभी क्षेत्रों में समग्र निगरानी तंत्र को और मजबूत किया गया है। इस बीच एलएसी पर जारी तनाव को कम करने के लिए दोनों देशों के बीच सोमवार को चुशूल में ब्रिगेड कमांडर लेवल की मीटिंग हुई। मंगलवार को फिर बातचीत होगी। पैंगोंग सो इलाके में रणनीतिक रूप से अहम कुछ पॉइंट्स पर भारतीय सेना पहले ही चीन के मुकाबले अडवांस पोजिशन में तैनात थी। यही वजह है कि जब 2 दिन पहले चीन ने भारतीय इलाके में घुसपैठ की हिमाकत की तो बिना कोई समय गंवाए सेना ने उन्हें खदेड़ते हुए उनके नापाक मंसूबों पर पानी फेर दिया। अब चीन की ताजा हिमाकत के बाद भारत ने अपनी तैनाती और मजबूत की है।
भारत के सैनिक अब पैंगोंग त्सो झील के दक्षिणी किनारे पर ऊंचाई पर भी तैनात हैं, जिससे वह चीन के मुकाबले अडवांस पोजिशन में हैं। सूत्रों के मुताबिक जब चीन की घुसपैठ की कोशिश की खबर लगी तो भारतीय सैनिक अहम जगहों पर पहले ही पहुंच गए और उन पॉइंट्स पर अपनी स्थिति ज्यादा मजबूत कर ली जिस पर दोनों देश अपना होने का दावा करते हैं। अगर हम नॉर्थ बैंक को देखें यानी फिंगर एरिया को तो वहां चीनी सैनिक फिंगर- 4 की चोटी पर बैठे हैं और हाइट का फायदा लेने की कोशिश कर रहे हैं। अब साउथ बैंक में भारतीय सैनिकों ने वही किया है और ऊंचाई पर तैनाती कर डट गए हैं।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जयप्रकाश एवं आदित्य श्रीवास्तव अखिल भारतीय कायस्थ महासभा के प्रदेश सचिव मनोनीत