सिंधिया के सदस्यता अभियान से पहले भाजपा के बड़े नेता तवज्जो न मिलने से नाराज

ग्वालियर । आगामी 22 अगस्त से ज्योतिरादित्य सिंधिया का ग्वालियर दौरा है । वे छह माह बाद और भाजपा में शामिल होने के बाद पहली बार ग्वालियर में आ रहे है । इससे उनके समर्थकों में उत्साह है क्योंकि अभी तक वे अलग -थलग पड़े हुए थे। अब उन्हें पार्टी का नाम मिल जाएगा । सिंधिया ने इस आयोजन का नाम सदस्यता अभियान दिया है । इसमें वे संभाग भर के समर्थको की भीड़ एकजुट कर भाजपा को ताकत दिखाना चाहते है और अपने समर्थकों को भाजपा के अपने रुतबे का अहसास कराना चाहते है। घोषित कार्यक्रम के अनुसार इस आयोजन में श्री सिंधिया के अलावा केंद्रीय मंत्री नरेंद्र तोमर, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह और भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष बी डी शर्मा को भाग लेना है । इनके अलावा ग्वालियर के सांसद शेजवलकर की मौजूदगी रहेगी ।
इस सूची से भाजपा के अनेक बड़े नेता और पूर्व मंत्रियो को दर किनार किया गया है । संभाग से पूर्व मंत्री माया सिंह, जयभान सिंह पवैया, अनूप मिश्रा ,नारायण सिंह कुशवाह, लाल सिंह आर्य और रुस्तम सिंह सहित अनेक बड़े नेताओं का नाम उस सूची में शामिल नही है जिनको सम्मानजनक तरीके से मंच पर मौजूद रहना है ।
इस बात का पता चलने पर वे और उनके समर्थक खासे उपेक्षित और नाराज है । भाजपा के ज्यादातर बड़े नेता पार्टी में दी जा रही अनावश्यक और अत्यधिक तबज्जो से भी नाराज है । माना जा रहा है कि यह लोग सामूहिक रूप से कार्यक्रम के दिन बाहर जाकर पार्टी को अपनी उपेक्षा और नाराजी का संदेश दे सकते हैं हालांकि इनमे से कोई खुलकर कुछ बोलने को तैयार नहीं है । भाजपा नेताओ और कार्यकर्ताओं में उपज रही यह उपेक्षा उप चुनाव में परेशान कर सकती है । हालांकि आयोजन से जुड़े लोगों का कहना है कि नेताओं की इस गलतफहमी को दूर कर लिया जाएगा ।


टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरकार बताए मुर्ति का साईज छोटा करने से कैसे रुकेगा कोरोना: जगवीर दास