भारत में पहली बार 24 घंटे के भीतर कोविड-19 के एक लाख से अधिक मरीज हुए ठीक


नयी दिल्ली। भारत में पहली बार एक दिन में कोविड-19 के एक लाख से अधिक मरीज ठीक हुए हैं और इसके साथ ही देश में कोरोना वायरस से संक्रमित लोंगों के ठीक होने की दर बढ़कर 80.86 प्रतिशत हो गई है। केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार देश में पिछले 24 घंटे में 76 हजार से कम नए मामले सामने आए। मंत्रालय की ओर से सुबह आठ बजे जारी किए गए अद्यतन आंकड़ों के अनुसार पिछले 24 घंटे में 75,083 नए मामले सामने आए जबकि 1,01,468 लोग संक्रमणमुक्त हुए। मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार पिछले 24 घंटे में 75,083 नए मामले सामने आने के बाद देश में संक्रमण के मामले बढ़कर 55,62,663 हो गए। वहीं, 1,053 और लोगों की मौत के बाद मृतक संख्या बढ़कर 88,935 हो गई। कुल 44,97,867 लोगों के संक्रमण मुक्त होने के बाद देश में मरीजों के ठीक होने की दर 80.86 प्रतिशत हो गई है। कोविड-19 से मौत की दर 1.60 प्रतिशत है। आंकड़ों के अनुसार देश में अभी 9,75,861 मरीजों का कोरोना वायरस के लिए इलाज जारी है, जो संक्रमण के कुल मामलों का 17.54 प्रतिशत है। भारत में आठ सितम्बर के बाद पहली बार 76 हजार से कम नए मामले सामने आए हैं। आठ सितम्बर को 75,809 नए मामले सामने आए थे। भारत में कोविड-19 के मामले सात अगस्त को 20 लाख के पार, 23 अगस्त को 30 लाख के पार, पांच सितम्बर को 40 लाख के पार और 16 सितम्बर को 50 लाख के पार चले गए थे। भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के अनुसार देश में 21 सितम्बर तक कुल 6,53,25,779 नमूनों की कोविड-19 की जांच की गई, इनमें से 9,33,185 नमूनों की जांच सोमवार को ही की गई। आंकड़ो के अनुसार पिछले 24 घंटे में जिन 1,053 लोगों की मौत हुई, उनमें से सबसे अधिक 344 लोग महाराष्ट्र के थे। इसके अलावा कर्नाटक के 122, उत्तर प्रदेश के 88, पश्चिम बंगाल के 62, तमिलनाडु के 60, आंध्र प्रदेश के 51, पंजाब के 47, मध्य प्रदेश के 37 और दिल्ली के 32 लोग थे। मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, अभी तक कुल 88,935 लोगों की मौत हुई है, इनमें सर्वाधिक 33,015 लोग महाराष्ट्र के हैं। वहीं, तमिलनाडु के 8,871, कर्नाटक के 8,145, आंध्र प्रदेश के 5,410, उत्तर प्रदेश के 5,135, दिल्ली के 5,014, पश्चिम बंगाल के 4,421, गुजरात के 3,336 , पंजाब के 2,860 और मध्य प्रदेश के 2,007 लोग शामिल हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय इस बात पर जोर दिया कि संक्रमण की वजह से मरने वाले 70 प्रतिशत से अधिक मरीज दूसरी बीमारियों से भी ग्रसित थे। मंत्रालय ने अपनी वेबसाइट पर कहा, ''हमारे आंकड़ों का मिलान आईसीएमआर से किया जा रहा है।''

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

डॉ. कलाम की स्मृति में स्कूलों में मनेगा राष्ट्रीय आविष्कार सप्ताह