बीएमसी ने तोड़ा कंगना का ऑफिस, अपनों ने ही किया सरकार का विरोध


मुंबई। शिवसेना के शासन वाली बीएमसी के अधिकारियों ने अभिनेत्री कंगना रनौत के ऑफिस और घर पर तोड़फोड़ की है। हालांकि इस तरह बुलडोजर चलाने का विरोध हो रहा है। यहां तक की शिवसेना सरकार में सहयोगी पार्टियां भी इसका विरोध कर रही है। एनसीपी चीफ शरद पवार के बाद अब कांग्रेस नेता संजय निरुपम ने भी बीएमसी के इस ऐक्शन को प्रतिशोध से ओत-प्रोत बताया है। संजय निरुपम ने ट्वीट करके कहा, 'कंगना का ऑफिस अवैध था या उसे डिमॉलिश करने का तरीका ? क्योंकि हाई कोर्ट ने कार्रवाई को गलत माना और तत्काल रोक लगा दी। उन्होंने इस कार्रवाई को प्रतिशोध से ओत-प्रोत बताया।राजनीति की उम्र बहुत छोटी होती है। कहीं एक ऑफिस के चक्कर में शिवसेना का डिमॉलिशन न शुरू हो जाए।'
इससे पहले, शरद पवार ने कंगना के मुंबई स्थित कार्यालय पर बुलडोजर चलने के बाद तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए इसे बेहद गैर-जरूरी ऐक्शन करार दिया है। एनसीपी चीफ पवार ने कहा था कि हर कोई जानता है कि मुंबई पुलिस सुरक्षा के लिए काम करती है। आपको इन लोगों को प्रचार नहीं देना चाहिए। वहीं सोशल मीडिया पर भी उद्धव ठाकरे सरकार को इसे लेकर आलोचनाओं का शिकार होना पड़ा।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जयप्रकाश एवं आदित्य श्रीवास्तव अखिल भारतीय कायस्थ महासभा के प्रदेश सचिव मनोनीत