पूर्व केंद्रीय मंत्री शरद यादव तबीयत बिगड़ी, अस्पताल में भर्ती


पटना। पूर्व केंद्रीय मंत्री और लोकतांत्रिक जनता दल के अध्य शरद यादव की तबीयत ज्यादा खराब हो गई है। पार्टी नेताओं की ओर मिली जानकारी के मुताबिक सोमवार देर शाम उनकी हालत काफी खराब हो गई थी, जिसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था। डॉक्टरों की टीम उनकी जांच में जुटी हुई है। मंगलवार सुबह तक 75 वर्षीय शरद यादव की हालत नाजुक बनी हुई है। बिहार विधानसभा चुनाव के दौरान पूर्व केंद्रीय मंत्री शरद यादव की हालत नाजुक होने से उनके समर्थक निराश हैं। शरद यादव के समर्थक दुआ कर रहे हैं कि वे जल्द स्वस्थ्य हो जाएं।
लोकतांत्रिक जनता दल (लोजद) ने रविवार को कहा था कि इसके संस्थापक शरद यादव बिहार में विपक्षी गठबंधन को सत्ता में लाने के लिये काम करेंगे। पार्टी ने बिहार के मुख्यमंत्री एवं जनता दल (यूनाइटेड) प्रमुख नीतीश कुमार से उनके हाथ मिलाने के बारे में अटकलों को 'अफवाह' बताते हुए खारिज कर दिया और इसे पूरी तरह से झूठा एवं बेबुनियाद बताया। लोजद ने एक बयान में कहा कि पार्टी बिहार विधानसभा चुनाव में धर्मनिरपेक्ष ताकतों के बीच और अधिक एकजुटता लाने के लिये काम करेगी। चुनाव आयोग ने बिहार विधानसभा चुनाव तीन चरणों में कराने की घोषणा की है। मतदान 28 अक्टूबर, तीन नवंबर और सात नवंबर को होगा, जबकि मतगणना 10 नवंबर को होगी। पार्टी के पदाधिकारियों की यहां एक बैठक हुई जिसमें गायक एसपी बालासुब्रह्मण्यम और पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह के निधन पर उन्हें श्रद्धांजलि दी गई। पार्टी संरक्षक शरद यादव फिलहाल बीमार हैं। कोविड-19 महामारी के दौरान यह विश्व में सर्वाधिक व्यापक स्तर पर होने जा रहा चुनाव है। बयान के मुताबिक लोजद केंद्र सरकार की किसान विरोधी नीतियों की कड़ी आलोचना करता है। साथ ही, इसमें यह भी कहा गया कि पार्टी इसे ग्रामीण अर्थव्यवस्था की क्षमता पर एक गंभीर हमले के रूप में देखती है। संसद द्वारा पारित तीन कृषि विधेयकों के संदर्भ में यह कहा गया।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मुरैना में 10, ग्वालियर और भिंड में 7-7, शिवपुरी व श्योपुर में 1-1 संक्रमित