हाथरस केस : पीड़ित परिवार के साथ रही 'फर्जी भाभी' की मुश्किलें बढ़ीं, मेडिकल कॉलेज ने थमाया नोटिस

जबलपुर। हाथरस केस में पीड़िता की फर्जी रिश्तेदार बनकर रह रही महिला राजकुमारी बंसल को जबलपुर मेडिकल कॉलेज ने नोटिस भेजा है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, महिला की तस्वीर और वीडियो सोशल मीडिया में सामने आने के बाद से जबलपुर मेडिकल कॉलेज के डीन पीके कसार ने नोटिस जारी कर उनसे जवाब मांगा है। कसार ने कहा है कि एक शासकीय सेवक के किसी भी तरह के आंदोलन में शामिल होने को कदाचार माना जाएगा। कसार ने बताया कि ऐसे में पहले बंसल को नोटिस भेजा गया है। इसके बाद उनके खिलाफ शासन के नियमों के मुताबिक कार्रवाई भी की जाएगी। इस बीच राजकुमारी बंसल के खिलाफ पूर्व में जारी प्रशासन का एक नोटिस भी वायरल हो रहा है। तब बंसल डिंडौरी जिला चिकित्सालय में तैनात थीं। साल 2015 में मध्य प्रदेश स्वास्थ्य विभाग के अपर संचालक (प्रशासन) शैलबाला मार्टिन द्वारा जारी इस नोटिस में बताया गया है कि वह लंबे समय तक बिना कारण बताए ड्यूटी से अनुपस्थित थीं।
मार्टिन ने सिविल सर्जन अस्पताल अधीक्षक जिला चिकित्सालय डिंडौरी के 29 मई 2014 को लिखे गए पत्र का हवाला देते हुए बंसल पर आरोप तय किए थे और उन्हें 10 दिन के भीतर जवाब तलब किया था। फिलहाल, बंसल हाथरस केस में अपनी संदिग्ध भूमिका को लेकर चर्चा में हैं। उन पर नक्सली होने के आरोप लगाए जा रहे हैं। बता दें कि शनिवार को हाथरस कांड में मीडिया में रिपोर्ट आई कि गैंगरेप पीड़िता के घर पर फर्जी रिश्तेदार बनकर एक महिला रह रही थी। महिला के ऊपर नक्सली होने और परिवार को सरकार के खिलाफ भड़काने के आरोप लगाए गए। इन सबके बीच सोशल मीडिया पर #Fake Naxal Bhabhi भी ट्रेंड होने लगा। इसके बाद महिला ने खुद मीडिया के सामने आकर अपनी पहचान बताई और कहा है कि वह परिवार से एकजुटता दिखाने गई थी।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मुरैना में 10, ग्वालियर और भिंड में 7-7, शिवपुरी व श्योपुर में 1-1 संक्रमित