भोपाल में फ्रांस के राष्ट्रपति के खिलाफ प्रदर्शन, सीएम शिवराज ने कहा, शांति भंग नहीं होने देंगे

भोपाल। इकबाल मैदान में गुरुवार दोपहर फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रो के विरोध में मुस्लिम समाज के सैकड़ों लोग एकत्रित हुए थे, हाथों में तख्तियां लेकर उन्होंने नारेबाजी की। फ्रांस का राष्ट्रीय ध्वज जलाकर विरोध जताया। इस मामले में सीएम शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर कहा है कि मध्य प्रदेश शांति का टापू है। इसकी शांति को भंग करने वालों से हम पूरी सख्ती से निपटेंगे। इस मामले में 188 आइपीसी के तहत मामला दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है। किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जाएगा, वो चाहे कोई भी हो।
इकबाल मैदान में भोपाल में मध्य क्षेत्र के विधायक आरिफ मसूद के नेतृत्व में हुए प्रदर्शन के दौरान कई लोग मास्क नहीं लगाए थे। सुरक्षित शारीरिक दूरी का पालन भी नहीं किया गया। भीड़ के कारण पीरगेट, कमला पार्क जाने वाले मार्ग पर ट्रैफिक जाम हो गया था। इससे लोग काफी परेशान हुए। तलैया थाना प्रभारी डीपी सिंह ने बताया कि विधायक आरिफ मसूद सहित करीब 200 अज्ञात लोगों के खिलाफ कोरोना काल में शासन-प्रशासन की गाइडलाइन का उल्लंघन करने का प्रकरण दर्ज कर लिया है।
प्रदर्शन में शहर काजी मुश्ताक अली नदबी, मुस्ती-ए-शहर अबुल कलाम कासमी ने भी फ्रांस के राष्ट्रपति का विरोध कर सामूहिक दुआ की। जिला प्रशासन को दिए ज्ञापन में कहा कि फ्रांस के राष्ट्रपति माफी मांगें। विधायक मसूद ने भारत सरकार से फ्रांस से सभी तरह के संबंध तोड़ने की अपील की है। बता दें कि फ्रांस के राष्ट्रपति ने पैगंबर हजरत मोहम्मद की शान के खिलाफ अभद्र टिप्पणी की है। इससे दुनिया भर के मुस्लिम समुदाय में नाराजगी है।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जयप्रकाश एवं आदित्य श्रीवास्तव अखिल भारतीय कायस्थ महासभा के प्रदेश सचिव मनोनीत