मतदान दलों के प्रशिक्षण में अनुपस्थित कर्मचारियों के विरूद्ध करें निलंबन की कार्रवाई: कलेक्टर

ग्वालियर। विधानसभा उप निर्वाचन-2020 के लिये नियुक्त किए गए नोडल अधिकारी अपने-अपने दायित्वों को समय-सीमा में पूर्ण करें। निर्वाचन के कार्य में किसी भी प्रकार की लापरवाही न बरती जाए। स्वतंत्र, निष्पक्ष और शांतिपूर्ण मतदान के लिये आयोग के निर्देशों का अक्षरश: पालन सुनिश्चित किया जाए। कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्री कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने शुक्रवार को कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में निर्वाचन के लिये नियुक्त नोडल अधिकारियों की बैठक में यह निर्देश दिए। निर्वाचन के लिये मतदान दलों का प्रथम चरण का प्रशिक्षण पूर्ण किया जा चुका है। प्रशिक्षण में बिना अनुमति के अनुपस्थित रहे 211 कर्मचारियों के विरूद्ध निलंबन की कार्रवाई करने के निर्देश भी कलेक्टर श्री कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने दिए। बैठक में सीईओ जिला पंचायत श्री शिवम वर्मा, एडीएम श्री टी एन सिंह, एडीएम श्री किशोर कान्याल, अपर कलेक्टर एवं उप जिला निर्वाचन अधिकारी श्री आशीष तिवारी, ग्वालियर, ग्वालियर पूर्व एवं डबरा (अजा.) के रिटर्निंग ऑफीसर सहित सभी नोडल अधिकारी उपस्थित थे।
  कलेक्टर श्री कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने बैठक में यह भी निर्देशित किया है कि राजनैतिक कार्यक्रम जो अनुमति के पश्चात आयोजित किए जा रहे हैं उनकी शतप्रतिशत वीडियोग्राफी कराई जाए। इसके साथ ही निर्वाचन के लिये गठित दल आवश्यक चैकिंग का कार्य भी प्रभावी रूप से करें। उन्होंने मतदान दलों को व्यवस्थित करने की कार्रवाई भी तत्परता से करने के निर्देश निगम के अधिकारियों को दिए। ग्रामीण क्षेत्र में जनपद पंचायतों के माध्यम से मतदान केन्द्रों को तैयार करने की जवाबदारी सौंपी गई है। कलेक्टर श्री कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने बैठक में 80 वर्ष से अधिक, दिव्यांग तथा कोविड संक्रमित मतदाताओं को पोस्टल बैलेट की सुविधा के संबंध में भी समीक्षा की। उन्होंने तीनों रिटर्निंग ऑफीसरों को निर्देशित किया है कि वे अपने-अपने विधानसभा क्षेत्र में बीएलओ के माध्यम से चिन्हित सभी मतदाताओं से पोस्टल बैलेट भरवाने और प्राप्त करने की कार्रवाई निर्धारित समय-सीमा में सुनिश्चित करें। कलेक्टर श्री सिंह ने बैठक में इलेक्ट्रोनिक वोटिंग मशीन से मतदान की प्रक्रिया का डेमो भी देखा। इसके साथ ही उन्होंने सीईओ जिला पंचायत को कहा है कि तीन स्थानों पर प्रशिक्षण हेतु मतदान केन्द्र तैयार कर कर्मचारियों को इलेक्ट्रोनिक वोटिंग मशीन के उपयोग का प्रशिक्षण दिलाया जाए। मतदान दल के कर्मचारी मतदान से पूर्व इलेक्ट्रोनिक वोटिंग मशीन के उपयोग की सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त करें। इसके लिये प्रशिक्षण अनिवार्य है। उन्होंने बैठक में शिकायत शाखा को और प्रभावी बनाने के निर्देश भी दिए। शिकायत शाखा में प्राप्त होने वाली प्रत्येक शिकायत को दर्ज कर उस पर आवश्यक कार्रवाई समय-सीमा में सुनिश्चित की जाए। की गई कार्रवाई से संबंधित को भी अवगत कराया जाए।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मुरैना में 10, ग्वालियर और भिंड में 7-7, शिवपुरी व श्योपुर में 1-1 संक्रमित