कमलनाथ बोले- सिंधिया झूठ बोलते हैं मेने उन्हें कभी कट्टा नहीं कहा


ग्वालियर। मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा है कि राज्य में जिन सीटों पर उप चुनाव हो रहा है जनता इस बात को जान गई है कि यह उप चुनाव क्यों हो रहा है। इतना ही नहीं भाजपा भी इस बात को समझ चुकी है। उन्होने कहा कि चुनावों में टाइगर से लेकर कुत्ता तक के शब्द आये, सिंधिया जी ने कहा कि मैंने (कमलनाथ ने)उन्हें कुत्ता कहा। उन्होंने स्पष्ट किया कि अशोकनगर की सभा में जनता और मीडिया कर्मी भी मौजूद थे वह स्वयं बता देंगे कि मैने सिंधिया को कुत्ता कहा कि नहीं। 
मप्र के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ आज यहां चुनावी सभा के बाद पत्रकारों से चर्चा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि देश में राजनीति का स्तर ऐसा हो जायेगा ऐसा कभी सोचा नहीं था। उन्होने कहा कि डबरा की सभा में आइटम का उपयोग किया जिस पर सामने वाले को बुरा लगा और मैने खेद भी व्यक्त किया। पूर्व सीएम ने कहा कि वह स्वयं ४० वर्षों से राजनीति कर रहा हूं कई चुनाव मैने लडे और लडाये हैं। लोकसभा तक में आइटम का उपयोग प्रधानमंत्री से लेकर अन्य सांसदों के लिये होता रहा है, जिस पर भाजपा ने बे फालतू में बखेडा खडा कर दिया जो चार दिनों तक चला । पूर्व सीएम ने कहा कि शिवराज सिंह पहले दिन से ही जनता से झूठ बोल रहे हैं। वह तो अपने नजरिये से जनता को देखते हैं। वह तो घोषणायें , शिलान्यास , नारियल फोडते हैं और जनता को मूर्ख बनाते रहे हैं, उन्होंने कहा कि अब जनता उनसे मूर्ख बनने वाली नहीं है। 
उन्होंने कहा कि वह मुझसे १५ माह का हिसाब मांग रहे हैं लेकिन जनता को १५ सालों का हिसाब क्यों नहीं दे रहे। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज ने उन्हें पापी तक कह डाला उन्होने कहा कि हां मैं पापी हूं क्योंकि मैने किसानों का कर्जा माफ किया , जनता को सौ रूपये में सौ यूनिट बिजली दी। पूर्व सीएम ने कहा कि हां में एक बात स्वीकार करता हूं कि उन्होंने कोई सौदा नहीं किया।  उन्होंने कहा कि मैने सीएम पद के लिये कोई समझौता नहीं किया। उन्होने माफियाओं से लेकर अन्य के लिये अभियान चलाया और कडी कार्रवाई भी की। यही मेरी गलती है। उन्होंने कहा कि जनता ने शिवराज को भी १५ साल तक आजमाया और १५ माह तक मुझे भी। मैने ग्वालियर-चंबल संभाग में मान सम्मान में कोई कोर कसर नहीं छोडी चाहे वह छोटा व्यापारी हो या कोई अन्य । इलेक्शन कमीशन द्वारा उन्हें नोटिस दिये जाने से लेकर अन्य कार्रवाई के बारे में पूछे गये एक प्रश्र के उत्तर में पूर्व सीएम कमलनाथ ने कहा कि ईसी ने नोटिस दिया उन्होने पढ़ लिया। वह ४० सालों से ऐसे ही नोटिसों का जबाब देते आये हैं। ईसी ने क्या किया इसे जानने की आवश्यकता नहीं हैं। १० नवंबर के बाद ग्वालियर-चंबल की जनता स्वयं जबाब दे देगी। मतदाता को समझ आ गया है और चुनावों में उनके आंखों में पहचान को देख रहा हूं। सिंधिया द्वारा उनके पास कोई विकास की बात लेकर नहीं आये इसके साथ ही सौदे वाले कुछ ईमेल और वाटसएप उनके पास हैं , के उत्तर में पूर्व सीएम ने कहा कि विकास की बात होती तो मैं उसे उजागर करता । 
पत्रकारों द्वारा सिंधिया के बारे में पूछे एक प्रश्र के उत्तर में कि क्या सिंधिया कांग्रेस में वापस आयेंगे के उत्तर में कमलनाथ ने कहा कि जो कांग्रेस को छोडकर चले गये, इस प्रकार की गददारी की बिकाऊ है के लिये कांग्रेस में कोई स्थान नहीं होगा। राजनीति मेें गिरे स्तर पर कोई बहस हो के बारे में पूछे गये एक प्रश्र के उत्तर में कमलनाथ ने कहा कि यह चिंता का विषय है इस पर बहस होना चाहिये। एक प्रश्र के उत्तर में कमलनाथ ने कहा कि १० के बाद दूध का दूध पानी का पानी हो जायेगा। 

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जयप्रकाश एवं आदित्य श्रीवास्तव अखिल भारतीय कायस्थ महासभा के प्रदेश सचिव मनोनीत