भितरघात बना मुसीबत ,भाजपा ने अपने पूर्व विधायक को निकाला

मुरैना । उप चुनाव के लिए मतदान में अब महज कुछ ही घण्टे शेष बचे है लेकिन भाजपा में अंतरकलह और भितरघात कम नही हो रही । इसे रोकने आज पार्टी ने कठोर निर्णय लेते हुए अपने एक पूर्व विधायक पर अनुशासनहींनता का आरोप लगाते हुए पार्टी से निष्काषित करने का हंटर चल दिया । मुरैना की सुमावली विधानसभा के पूर्व विधायक भाजपा से निष्कासित कर दिया गया । सत्यपाल सिंह सिकरवार नीटू पर लगाया अनुशासनहीनता का आरोप है ।भाजपा प्रदेशाध्यक्ष एवं खजुराहो सांसद विष्णदत्त शर्मा ने यज कार्यवाही करते हुए कहा कि पार्टी के निर्देशों की अवहेलना तथा पार्टी प्रत्याशी के विरोध में कार्य किये जाने पर उन्हें  प्राथमिक सदस्यता से  निष्कासि किया गया है ।      
गौरतलब है कि सत्यपाल सिंह सिकरवार नीटू के बड़े भाई डॉ. सतीश सिंह सिकरवार ग्वालियर में हैं कांग्रेस प्रत्याशी, इनके पिता एवं पूर्व विधायक गजराज सिंह सिकरवार एवं मुरैना जिला भाजपा के वरिष्ठ कार्यकर्ता उदयवीर सिंह सिकरवार को प्रदेश के अन्य निर्वाचन क्षेत्रों में  जिम्मेदारी थी । गजराज सिंह को अनूपपुर में तो नीतू को मांधाता क्षेत्र में प्रचार के लिए जाने को कहा गया था लेकिन वे नही गए । इनके खिलाफ सुमावली से भाजपा प्रत्याशी ऐंदल सिंह कंसाना और ग्वालियर पूर्व से भाजपा उम्मीदवार मुन्नालाल गोयल लगातार शिकायतें कर रहे थे । सिकरवार परिवार का मुरैना जिले की सियासत में बड़ा दखल है खासकर क्षत्रीय वोटर्स पर अच्छी पकड़ है । यही बजह है कि नीटू के निष्कासन की खबर से भाजपा में उबाल आ गया । इस निर्णय के खिलाफ नीटू समर्थक भाजपा कार्यकर्ताओं ने अनेक स्थानों पर प्रदर्शन कर भाजपा के ध्वज तथा केंद्रीय मंत्री नरेंद्र तोमर और प्रदेश अध्यक्ष बीडी शर्मा के पुतले फूंके । हालांकि भाजपा नेता इससे होने वाले डेमेज कंट्रोल में जुट गए हैं।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जयप्रकाश एवं आदित्य श्रीवास्तव अखिल भारतीय कायस्थ महासभा के प्रदेश सचिव मनोनीत