कोहली पर छींटाकशी का प्रयोग न करे ऑस्ट्रेलिया इससे उन्हें अतिरिक्त प्रेरणा मिलती है : स्टीव वॉ

मेलबर्न। ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान स्टीव वॉ  ने अपनी टीम को भारत के खिलाफ चार टेस्ट मैचों की आगामी सीरीज के लिए विराट कोहली से वाकयुद्ध में नहीं पड़ने की सलाह दी है क्योंकि उनका कहना है कि इससे कोहली और उनकी टीम को अच्छे प्रदर्शन की ‘अतिरिक्त प्रेरणा’ मिल जाएगी। बॉर्डर-गावसकर ट्रोफी 17 दिसंबर को एडिलेड ओवल पर दिन-रात के मैच से शुरू होगी। इसके बाद मेलबर्न (26 दिसंबर से), सिडनी (सात जनवरी से) और ब्रिसबेन (15 जनवरी से) में मैच खेले जाएंगे। दौरे की शुरुआत 27 नवंबर से तीन वनडे मैचों की सीरीज के जरिए होगी। वॉ ने ईएसपीएन क्रिकइन्फो पर डाले गए वीडियो में कहा, ‘छींटाकशी से विराट कोहली को कोई परेशानी नहीं होगी। महान खिलाड़ियों पर इससे असर नहीं पड़ता। इसलिए इससे दूर ही रहें।’
उन्होंने कहा, ‘इससे उन्हें और रन बनाने की अतिरिक्त प्रेरणा मिलेगी। इसलिए उस पर शब्दों के बाण नहीं छोड़ना ही बेहतर है।’ ऑस्ट्रेलिया के तत्कालीन कप्तान टिम पेन और उनकी टीम ने भारतीय टीम के पिछले ऑस्ट्रेलिया दौरे पर यही गलती की थी और भारत ने ऑस्ट्रेलियाई सरजमीं पर पहली बार टेस्ट सीरीज 2-1 से जीती। वॉ ने कहा, ‘कोहली विश्व स्तरीय खिलाड़ी है और वह सीरीज का सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज रहना चाहता है। पिछली बार भारत में स्टीव स्मिथ और वह आमने-सामने थे जिसमें स्मिथ तीन शतक लगाकर आगे रहे। यह भी उसके जेहन में होगा और वह ज्यादा रन बनाना चाहेगा।’ उन्होंने कहा कि बतौर खिलाड़ी कोहली अब कहीं अधिक नियंत्रित है और भारत को विदेश में जीत दिलाने को बेताब भी। उन्होंने कहा, ‘वह पहले से अधिक परिपक्व है और नियंत्रित भी। वह चाहता है कि भारत विदेश में जीतकर नंबर वन की अपनी रैंकिंग के साथ न्याय करे। वह टीम को उस मुकाम पर ले गया है, जहां वह पहले नहीं गई।’

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जयप्रकाश एवं आदित्य श्रीवास्तव अखिल भारतीय कायस्थ महासभा के प्रदेश सचिव मनोनीत