रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए रामबाण है योग: मुख्यमंत्री श्री चौहान

भोपाल। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में 'योग' रामबाण है। कोरोना संकट काल में पूरे विश्व को इसकी आवश्यकता है। हमें योग का अधिक से अधिक प्रचार-प्रसार कर पीड़ित मानवता को इस भीषण संकट से बचाना है। मध्यप्रदेश में कोरोना पूरी तरह नियंत्रण में है। दोबारा कोरोना की लहर न आए, इसके लिए हमें योग और आयुर्वेद को अपनाना होगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा है कि नई शिक्षा नीति में योग शिक्षा को अनिवार्य किया गया है। मध्यप्रदेश के हर विद्यालय में योग का प्रशिक्षण दिया जाएगा। योग को हमारी दिनचर्या का नियमित हिस्सा बनाने की जरूरत है। मैं स्वयं प्रतिदिन प्रात: 5 तरह के प्राणायाम करता हूँ। इसी का परिणाम है कि मैं कोरोना ग्रस्त होने के बाद भी निरंतर कार्य करता रहा। मुझे कोरोना का कोई दुष्परिणाम नहीं झेलना पड़ा। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान भारतीय योग परिषद के मध्यप्रदेश चैप्टर द्वारा आयोजित एक दिवसीय वेबिनार का शुभारंभ कर रहे थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के मुख्य केन्द्रीय प्रभारी तथा हरियाणा योग परिषद के अध्यक्ष डॉ. जयदीप आर्य ने की। वेबिनार में योग विशेषज्ञ प्रो. अरुण दिवाकर वाजपेई, डॉ. ईश्वर वी. बासवरदी, प्रो. ईश्वर भारद्वाज, डॉ. लक्ष्मीनारायण जोशी आदि उपस्थित थे। वेबिनार का संचालन परिषद के मध्यप्रदेश चैप्टर की अध्यक्ष डॉ. पुष्पांजलि शर्मा ने किया।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जयप्रकाश एवं आदित्य श्रीवास्तव अखिल भारतीय कायस्थ महासभा के प्रदेश सचिव मनोनीत