रोजगार वृद्धि प्रयासों के लिए पुरस्कृत होंगे जिले: मुख्यमंत्री श्री चौहान

भोपाल। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि रोजगार वृद्धि के लिये व्यवस्थित और सार्थक प्रयास करने वाले जिले पुरस्कृत किये जाएंगे। स्ट्रीट वेण्डर्स कल्याण योजना और स्व-सहायता समूहों के माध्यम से लोगों को स्वरोजगार से जोड़ने और आय का साधन मजबूत बनाने के प्रयास भी बढ़ाए जाएं। आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश का रोडमैप जनता के सामने कल ही रखा गया है। यह रोडमैप प्रदेश को आगे ले जाने का ठोस कदम है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि अब प्रतिमाह वीडियो कान्फ्रेसिंग होगी, जिसमें वे योजनाओं की राज्य स्तरीय समीक्षा करेंगे, आधिकारियों का परफार्मेंस देखेंगे। अब मेरिट के हिसाब से ही मैदानी अफसरों की नियुक्ति होगी। नियुक्ति का आधार परफार्मेंस ही होगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मैं सिर्फ कार्य चाहता हूँ। प्रदेश का विकास सर्वोपरि है। अपने कर्तव्य पूर्ण करने के प्रति विभागीय अफसर गम्भीर रहें, दायित्व निर्वहन में कोई कठिनाई हो तो बताएं। मुख्य सचिव इसका समाधान करेंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में अपराधों पर नियंत्रण के लिये अच्छे प्रयास किये गये हैं। इस तरह के प्रयास जारी रहें।
मुख्यमंत्री श्री चौहान शुक्रवार को मंत्रालय से वीडियो कॉन्फ्रेंस द्वारा आयोजित कलेक्टर्स-कमिश्नर्स, आईजी, एसपी कॉन्फ्रेंस को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, पुलिस महानिदेशक श्री विवेक जौहरी, विभिन्न जिलों से मंत्रीगण और विभिन्न विभागों के विभाग प्रमुख शामिल हुए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने अधिकारियों को कहा कि प्रदेश की जनता के कल्याण और उनके भविष्य को बेहतर बनाने का प्रयास करें। किसी तरह की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जायेगी। मासिक लक्ष्य निर्धारित कर कार्य करें और प्रदेश को देश में प्रथम स्थान पर लाने का प्रयास करें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने दीपावली की सभी को शुभकामनाएँ देते हुए कहा कि दीपावली प्रदेशवासियों के जीवन में सुख-समृद्धि लाए। हम अंधकार से प्रकाश की ओर बढ़ें। मध्यप्रदेश में कोरोना काल में आर्थिक समस्या रही जिससे उबरकर समाधान की राह तलाशी गई। प्रदेशवासियों ने इन प्रयासों को समर्थन देते हुए अपना स्नेह और आशीर्वाद दिया है जिससे मध्यप्रदेश, जिसे मैं मंदिर मानता हूँ उसके तीव्र विकास के लिए संकल्प व्यक्त करते हुए सभी से सहभागिता की आशा करता हूँ। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि हम प्रयासों की पराकाष्ठा करेंगे, प्रयत्नों की परिसीमा के साथ सुशासन लाएंगे। हमारा जीवन सिर्फ हमारा अपना जीवन न होकर समाज के लिए सार्थक भूमिका निभाने वाला जीवन हो। जियो और जीने दो के भाव के साथ हम पर्यावरण बचाएं, पानी बचाएं, किसी अनपढ़ को पढ़ाएं, किसी जरूरतमंद को गोद ले लें और कोई ऐसा कार्य अवश्य करें जो अपने लिए नहीं, अपनों के लिए हो। हमारी दीपावली किसी के जीवन को बदलने का अवसर भी बने। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के लिए सभी को एक साथ जुटना है। ईष्या और घृणा का कोई स्थान नहीं होना चाहिए। सामाजिक समरसता के मूलमंत्र और सर्वकल्याण की भावना के साथ अपनी भूमिका निभानी है।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जयप्रकाश एवं आदित्य श्रीवास्तव अखिल भारतीय कायस्थ महासभा के प्रदेश सचिव मनोनीत