लोकसभा अध्यक्ष बिरला बोले- सभी प्रांतों की उत्कृष्ट कला, संस्कृति और विविधताओं से परिपूर्ण होगा नया संसद भवन

नयी दिल्ली। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने संसद के नये भवन के शिलान्यास के अवसर पर बृहस्पतिवार को कहा कि यह भवन सभी प्रांतों की उत्कृष्ट कला, संस्कृति और विविधताओं से परिपूर्ण होगा तथा देश की जनता के लिए प्रेरणा का केंद्र भी होगा। बिरला ने नए दोनों सदनों के सदस्यों की इच्छा के मुताबिक नये संसद भवन के निर्माण की मंजूरी देने और शिलान्यास के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का धन्यवाद किया। उन्होंने कहा, ‘‘आज देश के लिए गौरव का दिन है। भारत के लोकतंत्र की मजबूती के स्तंभ संसद के नये भवन के शिलान्यास के मौके पर समस्त देशवासियों का स्वागत करता हूं।’’ वर्तमान संसद भवन का उल्लेख करते हुए बिरला ने कहा ‘‘हमारे वर्तमान संसद भवन का निर्माण 1927 में हुआ था। हमारी संसद लोगों के विश्वास और अकांक्षाओं का प्रतीक है। संसद भवन देश की आजादी, संविधान सभा और अनेक कानूनों के बनने की साक्षी रही है।’’ उनके अनुसार, संसद के दोनों सदनों के सदस्यों की इच्छा थी कि विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र के लिए नये भवन की जरूरत है और प्रधानमंत्री ने उनकी इच्छा का सम्मान किया। बिरला ने कहा, ‘‘हम आजादी के 75 साल पूरा करने जा रहे हैं। देश की जनता का सपना है कि उन्हें संसद का नया आधुनिक भवन मिले।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मुझे विश्वास है कि हम जल्द ही आधुनिक तकनीक युक्त, सुरक्षित पर्यावरण अनुकूल नए संसद भवन का निर्माण करेंगे जहां जन प्रतिनिधि जनता की आशाओं और अपेक्षाओं को कुशलता एवं दक्षता के साथ पूरा कर पाएंगे।’’ लोकसभा अध्यक्ष ने कहा, ‘‘ नया संसद भवन सभी प्रांतों की उत्कृष्ट कला, संस्कृति और विविधताओं से परिपूर्ण होगा और सभी देशवासियों के लिए प्रेरणा का केंद्र भी होगा।’’ इस अवसर पर आवास एवं शहरी कार्य मंत्री हरदीप पुरी ने कहा, ‘‘यह सिर्फ भारत के लोकतंत्र के लिए नहीं, विश्व में लोकतंत्र की परंपरा के लिए बड़ा दिवस माना जाएगा।’’ उन्होंने कहा, ‘‘लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला का बहुत आभारी हूं कि उन्होंने 2019 में नए संसद भवन को लेकर एक संकल्प भी पारित कराया जिसका बहुत ही महत्व है।’’ पुरी ने इस बात पर जोर दिया, ‘‘हम 2022 में इस भवन का निर्माण पूरा करेंगे और उस साल का शीतकालीन सत्र इस नए संसद भवन में होगा।’’ इससे पहले प्रधानमंत्री मोदी ने भूमि पूजन करने के साथ ही नये संसद भवन की आधारशिला रखी। चार मंजिला नये संसद भवन का निर्माण कार्य भारत की स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ तक पूरा कर लिए जाने की संभावना है। लोकसभा अध्यक्ष बिरला, विभिन्न राजनीतिक दलों के नेता, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह सहित कई केंद्रीय मंत्री, बड़ी संख्या में सांसद और कई देशों के राजदूत इस ऐतिहासिक अवसर के गवाह बने।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राहुल की साहसिक पारी से जूनियर टीम ने सीनियर को दी शिकस्त