ग्वालियर महापौर पद के लिए सबसे उपयुक्त चेहरा होंगी डॉ.अंजलि रायजादा

ग्वालियर। मप्र में महापौर पद के लिए हुए आरक्षण के बाद ग्वालियर में सामान्य महिला महापौर बनेगी। इसके बाद भारतीय जनता पार्टी में कई महिला उम्मीदवारों के नाम चर्चा में आ गए हैं, लेकिन इनमें से कोई भी डॉ.अंजिल रायजादा के समकक्ष नजर नहीं आ रही है। श्रीमती रायजादा शिक्षा, राजनीति, समाजसेवा एवं व्यवहार कुशलता में सबसे आगे खड़ी नजर आती हैं। यही कारण है कि अगर भाजपा उन्हें अपना उम्मीदवार बनाती है तो एक बार फिर ग्वालियर में भाजपा का महापौर बनना तय है। शहर में आरक्षण प्रक्रिया पूरी होते ही डॉ.अंजलि रायजादा को प्रत्याशी बनाने की मांग जोर पकड़ने लगी है। 
श्रीमती रायजादा भारतीय जनता पार्टी में पिछले कई वर्षों से सक्रिय रूप से सक्रिय हैं। इस दौरान वे पार्टी की ओर से नगर निगम में पार्षद रह चुकी हैं। पार्षद रहते हुए उन्होंने निगम में मेयर इन काउंसिल में महत्वपूर्ण जिम्मेदारियो का निर्वहन किया है। वह पूरे पांच साल तक सिर्फ क्षेत्र के विकास और जनसेवा में लगी रहीं। इस दौरान उन पर एक भी भ्रष्टाचार का दाग नहीं लगा जबकि अन्य नेता महत्वपूर्ण पद पर पहुंचते ही भ्रष्टाचार की गंगा में नहाने से नहीं चूकते हैं। श्रीमती रायजादा एजुकेशन के मामले में भी अन्य राजनीतिज्ञों से कोसों आगे खड़ी नजर आती हैं। उन्होंने एमबीबीएस करने के बाद चिकित्सा पेशे को अपना धर्म बनाया और लोगों की सेवा में जुट गईं। 1992 में कोणार्क हॉस्पीटल की स्थापना के बाद इस हॉस्पीटल में कभी पैसों के लिए लूट-खसोट नहीं की गई। हमेशा गरीब मरीजों की सहायता की गई। इसके साथ ही श्रीमती रायजादा पिछड़ी और गरीब बस्तियों में हैल्थ कैम्पों का लगातार आयोजन कर गरीब और बेसहाराओं की मदद कर उनकी हमदर्द बनी हुई हैं। उनके लगाए हैल्थ कैम्पस से अभी तक हजारों लोग फायदा उठा चुके हैं। 

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राहुल की साहसिक पारी से जूनियर टीम ने सीनियर को दी शिकस्त