पीएम मोदी ने दिए किसानों के सवालों के जवाब, बोले- फसल ही खरीदी ना? जमीन तो नहीं छीन ले गई कंपनी?

नई दिल्ली। पिछले कई दिनों से क्रषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसानों से आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मुखातिब हुए। उन्होंने अरुणाचल प्रदेश के गगन पेरिंग से जब पूछा कि प्राइवेट कंपनी ने सिर्फ आपकी फसल खरीदी या जमीन भी ले ली? तो वे थोड़ा हैरान हुए। उन्‍होंने जवाब दिया कि 'उत्‍पाद को ले जाने का एग्रीमेंट हुआ है, जमीन का नहीं। जमीन तो सुरक्षित है।' पीएम किसान सम्मान निधि की अगली किस्‍त जारी करते हुए पीएम मोदी ने यह सवाल अनायास ही नहीं पूछा। वह अपने सवालों के जरिए उनकी सरकार की तरफ से लाए गए कृषि कानूनों के विरोधियों को जवाब दे रहे थे। मोदी ने किसानों ने उन आशंकाओं को लेकर सवाल किए जिनका जिक्र प्रदर्शनकारी किसान संगठन कर रहे हैं। मोदी ने पश्चिम बंगाल का खासतौर पर जिक्र किया और पूछा क‍ि वहां की ममता बनर्जी सरकार क्‍यों पीएम किसान योजना के लाभ से राज्‍य के किसानों को वंचित रखे हुए है। उन्‍होंने लेफ्ट दलों को आड़े हाथों लिया और दिल्‍ली में किसान आंदोलन पर भी निशाना साधा।
पूरे हिंदुस्तान के किसानों को किसान सम्मान निधि योजना का लाभ मिला रहा है, सभी विचारधारा की सरकारें इसे जुड़ी हैं, लेकिन एकमात्र पश्चिम बंगाल सरकार वहां के 70 लाख के किसानों को इसका फायदा नहीं पहुंचने दे रही है। बंगाल की सरकार अपने राजनीतिक कारणों से राज्य के किसानों को पैसा नहीं दे रही है।बंगाल के कई किसानों ने भारत सरकार को सीधी चिट्ठी लिखी है, उसको भी मान्यता नहीं दे रही हैं। मैं हैरान हूं जो लोग 30-30 साल तक राज करते थे, अपनी विचारधारा के कारण उन्होंने बंगाल को कहां से कहां ला दिया, देश जानका है। ममता जी के 15 साल पुराने भाषण सुनोगे तो समझ आ जाएगा कि इस राजनीतिक विचारधार ने देश को कितना बर्बाद कर दिया है। बंगाल में उनकी (लेफ्ट) पार्टी है, संगठन है, 30 साल सरकार चलाई है, एक बार भी इन लोगों ने किसानों को 2 हजार रुपये के लिए कोई आंदोलन नहीं चलाया। ये लोग बंगाल से उठकर पंजाब पहुंच गए, तब सवाल उठता है। और पश्चिम बंगाल की सरकार भी 70 लाख किसानों को योजना का लाभ नहीं लेने दे रही है, लेकिन पंजाब में लेफ्ट के साथ गुपचुप करती है। देश की जनता को यह खेल पता है। जो दल बंगाल में किसानों की हालत पर कुछ नहीं बोलते, वे दिल्ली के नागरिकों को परेशान करने पर लगे हैं। देश की अर्थनीति को बर्बाद करने में लगे हैं, वह भी किसान के नाम पर।
नरेंद्र मोदी, प्रधानमंत्री
कार्यक्रम में सबसे पहले अरुणाचल प्रदेश के गगन पेरिंग का नंबर आया। उनसे पीएम मोदी ने पूछा कि वे पीएम किसान से मिले पैसों का क्‍या करते हैं? गगन ने बताया कि उन्‍होंने ऑर्गनिक खाद खरीदी। पीएम ने उनसे पूछा कि ऑर्गनिक खेती के लिए जिस कंपनी से टाईअप किया, वह सिर्फ फसल ले जाती है या जमीन भी? गगन ने जवाब दिया कि केवल फसल ले जाती है। इस पर पीएम मोदी ने कहा कि आप इतनी दूर अरुणाचल पर बैठे हैं और कह रहे हैं कि आपकी जमीन सुरक्षित है लेकिन यहां किसानों के बीच भ्रम फैलाया जा रहा है कि किसानों की जमीन ले ली जाएगी। उत्‍तर प्रदेश के महराजगंज में खेती करने वाले श्रीराम गुलाब से पीएम मोदी ने पूछा कि 'अहमदाबाद की कंपनी आपसे माल खरीद रही है तो आपको पूरे पैसे दे रही है?' जवाब में गुलाब ने कहा कि कंपनी घर से उत्‍पाद लेकर जाती है और कोई बिचौलिया नहीं है। इसके बाद पीएम मोदी ने कहा, "आपको नए कृषि सुधार के कारण सबसे बड़ा लाभ होगा, आपको ऐसा लगता है? जमीन तो नहीं चली जाएगी ना?" किसान ने जब कहा कि नहीं तो पीएम ने कहा कि 'झूठ फैलाए जा रहे हैं जी। आप जैसे लोग जब बोलते हैं, तब विश्‍वास बढ़ता है।'
'अब मंडियों में पूरा पैसा म‍िलता है' हरियाणा के फतेहाबाद से हरि सिंह बिश्‍नोई ने प्रधानमंत्री से कहा क‍ि वे चार भाई 40 एकड़ में खेती करते हैं। परिवार में 15 सदस्‍य हैं। सिंह ने बताया कि अब उनका रुझाव बागवानी की तरफ है। 10 एकड़ में बागवानी कर रखी है। पीएम ने पूछा कि सामान दिल्‍ली में बेचते हैं तो उन्‍होंने कहा कि नहीं, छोटी-छोटी मंडियों में बेचा करते थे। पीएम ने पूछा कि पहले से अच्‍छा पैसा मिलता है या नहीं? इसपर सिंह ने जवाब दिया कि पूरा पैसा मिलता है।
किसान आंदोलन को लेकर भी बोले पीएम
मोदी ने अपने संबोधन में किसान आंदोलन का जिक्र परोक्ष रूप से किया। मोदी ने कहा, "मुझे आज इस बात का अफसोस है कि मेरे पश्चिम बंगाल के 70 लाख से अधिक किसान भाई-बहनों को इसका लाभ नहीं मिल पाया है। बंगाल के 23 लाख से अधिक किसान इस योजना का लाभ लेने के लिए ऑनलाइन आवेदन कर चुके हैं। लेकिन राज्य सरकार ने वेरिफिकेशन की प्रक्रिया को इतने लंबे समय से रोक रखा है। जो दल पश्चिम बंगाल में किसानों के अहित पर कुछ नहीं बोलते, वो यहां दिल्ली में आकर किसान की बात करते हैं। इन दलों को आजकल APMC- मंडियों की बहुत याद आ रही है। लेकिन ये दल बार-बार भूल जाते हैं कि केरल में APMC- मंडियां हैं ही नहीं। केरल में ये लोग कभी आंदोलन नहीं करते।"

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ग्वालियर:- स्मार्ट सिटी के द्वारा विकसित किये जा रहे डिजीटल म्यूजियम और प्लेनेटोरियम का काम अंतिम चरण में है, और जल्द ही इसके पूर्ण होने पर एक बडी सौगात ग्वालियर शहर को मिल सकेगी। यह बात स्मार्ट सिटी के कंट्रोल कमांड सेंटर में पत्रकारो से हुई अनौपचारिक चर्चा के दौरान ग्वालियर स्मार्ट सिटी सीईओ श्रीमती जयति सिंह ने कही। आज पत्रकारो से इस अनौपचारिक चर्चा का उद्देश्य डिजीटल म्यूजियम के बारे में जानकारी साझा कर महत्वपूर्ण सुझाव लेना था। ग्वालियर स्मार्ट सिटी सीईओ श्रीमती जयति सिंह नें जानकारी देते हुये बताया कि ग्वालियर स्मार्ट सिटी द्वारा बनाया जा रहा संग्रहालय और तारामंडल परियोजना में संग्रहालय का कार्य अंतिम चरण में है और जल्द ही इस ग्वालियर की जनता को समर्पित कर दिया जायेगा। श्रीमती सिंह ने बताया कि इस डिजीटल संग्रहालय में संगीत, चित्र कला, शिल्पकला, पारम्परिक परिधान आदि के विषय विशेषज्ञों बुद्धिजीवी, पत्रकार इतिहासकार सहीत समाज के विभिन्न वर्गो से राय और सुझाव लिये जा रहे है। ताकि शहर में बनने वाले डिजीटल म्यूजियम को भव्यता प्रदान की जा सके। श्रीमती सिंह नें जानकारी देते हुये बताया कि इस संग्रहालय में ग्वालियर की स्थापत्य शैली, वस्तु, परिधान, जीवनशैली, वाद्य यंत्र, आभूषण, हस्तशिल्प, सांस्कृतिक परंपरा, चित्रकारी सहीत कई विधाओ को आधुनिक तरिके से डिजिटली प्रदर्शित किया जायेगा। उल्लेखनीय है कि ग्वालियर संभाग की स्थानीय चितौरा कला, मधुमती कला तथा मृणुशिल्प जैसी कलाओं को प्रमुख रूप से इस संग्रहालय में प्रदर्शित किया जायेगा। ताकि लुप्त हो रही इन कलाओ को पुर्नजीवित किया जा सके। यहां पर आकर पर्यटक 16 गैलरियों में सजे ग्वालियर के इतिहास, यंत्र, आभूषण, हस्तशिल्प और अन्य बातो को अत्याधुनिक आईटी उपकरणो का प्रयोग करके देख सकेंगे। इस संग्रहालय में वर्चुअल रियलटी का समावेश भी किया जायेगा जिसके द्वारा सैलानी इतिहास की किसी स्थल की वास्तविकता को महसूस कर सकेगे। श्रीमती सिंह नें चर्चा के दौरान जानकारी देते हुये बताया कि ग्वालियर की ऐसी प्राचीन कला, संगीत, शिल्प इत्यादी जो कि अब लुप्त हो चुकी या लुप्त होने की कगार पर है उनके बारे में विषय विशेषज्ञयो की सहायता से पूरी जानकारी जुटाई जा रही है ताकि उन्हे इस संग्रहालय में शामिल किया जा सके। श्रीमती सिंह नें सभी से अपील की वह अपने क्षेत्र के बारे में ज्यादा से ज्यादा जानकारी दे ताकि ग्वालियर और ग्वालियर के आसपास की कला-संस्कृति को इस संग्रहालय में शामिल करने के साथ साथ स्थानीय कलाकारों को भी ज्यादा से ज्यादा इस परियोजना से जोडा जा सके। ताकि स्थानीय कला और कलाकारो को एक पहचान मिल सके औऱ अन्य लोग उनके बारे में जान सके। श्रीमती सिंह नें जानकारी देते हुये बताया कि विभिन्न प्रमोशन औऱ प्रतियोगिताओ के द्वारा भी स्मार्ट सिटी कार्पोरेशन द्वारो स्थानीय कलाकारों को मौका दिया जा रहा है ताकि वह इस संग्रहालय में अपनी अपनी भागीदारी दे सके। गौलतलब है कि इस भवन के पीछे के भाग में एक तारामंडल भी विकसित किया जा रहा है। इस केंद्र को ग्वालियर के पर्यटन मानचित्र में एक अहम बिंदु के रूप में माना जा रहा है। ग्वालियर व बुंदेलखंड संभाग में यह अपनी तरह का पहला केंद्र होगा तथा स्कूल के छात्रों को शिक्षित करने भी भूमिका निभाएगा। डिजीटल संग्रहालय और प्लेनेटोरियम प्रोजेक्ट की लागत लगभग 7 करोड रुपये है और इसे 3500 वर्गफीट एरिया में तैयार किया जा रहा है। श्रीमती सिंह ने स्मार्ट सिटी की अन्य परियोजनाओ की जानकारी देते हुये बताया कि ग्वालियर स्मार्ट सिटी द्वारा कई महत्वपूर्ण परियोजनाये जिनमें डिजीटल सेट्रल लाईब्रेरी, स्मार्ट वाँश रुम कैफे, प्लेग्राउंड, वेस्ट टू आर्ट, सेल्फी पाँइट सहीत ऐसी कई परियोजनाये अपने अंतिम चरण में है जिनके पूर्ण होने पर शहर में जल्द ही परिवर्तन देखने को मिलेगा। वही उन्होने शहर के सभी वर्गो से अपील करते हुये कहाँ कि विकास के लिये प्रशासनिक व्यवस्था का दायित्व जितना महत्वपूर्ण है उतना ही समाज के हर वर्ग का भी योगदान रहता है दोनो के संयुक्त प्रयास और समन्वयन से ही विकास संभव हो पाता है। स्मार्ट सिटी का पूरा प्रयास रहेगा कि विकास के लिये सभी विभागो के साथ बेहतर तालमेल बनाकर समन्वय के साथ कार्य किया जाये