मप्र में कर्ज से परेशान होकर एक किसान ने लगाई फांसी, मौत

छतरपुर। मध्यप्रदेश के छतरपुर जिले में एक किसान ने कर्ज के चलते फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है। बताया जा रहा है कि किसान पर बिजली विभाग का 88 हजार रुपए का कर्ज था। परिजनों का कहना है कि इसे लेकर वह परेशान रहता था। वहीं परिजनों के आरोपों पर अधिकारियों ने जांच शुरू कर दी है। दरअसल, किसान के कथित खुदकुशी के बाद सरकारी दावों की कलई खुल गई है। परिजनों का कहना है कि बिजली विभाग के लोग लगातार वसूली के लिए परेशान कर रहे थे। इससे परेशान होकर युवक ने खुदकुशी की है। मामला छतरपुर जिले के मातगंवा थाना क्षेत्र के मातगंवा गांव का है, जहां 35 वर्षीय किसान मुनेंद्र राजपूत ने अपने खेत पर लगे पेड़ से फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है। मृतक किसान के पास से पुलिस को 4 पन्नों का सुसाइड नोट भी मिला है।
किसान के ऊपर बिजली विभाग का कुल 88 हजार रुपए का कर्ज था। किसान के परिजनों ने बताया कि 50 हजार रुपए का बकाया बिल था और 38 हजार रुपए की पेनाल्टी भी देनी थी। जिसके चलते मृतक किसान लगातार परेशान था। मृतक किसान ने सुसाइड नोट में बिजली विभाग के कर्ज और बेहतर फसल न होने का जिक्र भी किया है। फिलहाल पुलिस ने मर्ग कायम कर किसान के शव को पोस्टमॉर्टम के लिए जिला अस्पताल भेज दिया है और आगे की कार्रवाई शुरू कर दी है।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

फूल तुम्हें भेजा है खत में, फूल नहीं मेरा दिल है...