किसानों के साथ एकजुटता दिखाने के लिए कृषि वैज्ञानिक ने पुरस्कार लेने से किया इनकार

नयी दिल्ली। पंजाब कृषि विश्वविद्यालय के कृषि वैज्ञानिक वरिंदरपाल सिंह ने कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के मौजूदा आंदोलन के समर्थन में उर्वरक उद्योग की संस्था एफएआई का अवार्ड लेने से इनकार कर दिया। पौधों के पोषण से जुड़े कार्य के लिए वरिंदरपाल सिंह फर्टिलाइजर एसोसिएशन ऑफ इंडिया (एफएआई) के गोल्डन जुबली अवार्ड के संयुक्त विजेता घोषित किए गए थे। पुरस्कार के तहत दो लाख रुपये नकद राशि, एक स्वर्ण पदक और एक प्रशस्ति पत्र दिया जाता है। एफएआई के महानिदेशक सतीश चंद्र ने पुष्टि की है कि सोमवार को आयोजित हुए वार्षिक समारोह के दौरान सिंह ने पुरस्कार लेने से मना कर दिया। चंद्र ने पीटीआई-भाषा को बताया, ‘‘इस अकादमिक पुरस्कार को लेने से इनकार करना ठीक नहीं था।’’ उन्होंने कहा कि विभिन्न श्रेणियों में 34 पुरस्कार दिए गए। पुरस्कार वितरण समारोह में रसायन और उर्वरक राज्य मंत्री मनसुख लाल मांडविया भी मौजूद थे। सिंह ने सोशल मीडिया पर आए एक वीडियो में कहा, ‘‘संकट के इस समय में जब देश के किसान सड़कों पर हैं, मेरी अंतरात्मा ने यह पुरस्कार स्वीकार करने की मुझे इजाजत नहीं दी।’’ पंजाब कृषि विश्वविद्यालय में मृदा विज्ञान विभाग में प्रधान मृदा रसायनशास्त्री सिंह ने पुरस्कार नहीं स्वीकार करने के लिए खेद भी जताया।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राहुल की साहसिक पारी से जूनियर टीम ने सीनियर को दी शिकस्त