सिटी प्लानर प्रदीप वर्मा के रिश्तेदार EOW के रडार पर, रिश्तेदारों की प्रॉपर्टी खंगाल रही


ग्वालियर। बिल्डर से 5 लाख रुपए की रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किए गए नगर निगम के सिटी प्लानर प्रदीप वर्मा के घर से EOW को एक तोला सोना भी नहीं मिला। इसके बाद जांच अधिकारियों के कान खड़े हो गए। उन्हें पूरा भरोसा है कि प्रदीप वर्मा ने अपना स्वर्ण भंडार कहीं छुपा दिया है। इसके अलावा यह भी माना जा रहा है कि प्रदीप वर्मा ने अपने रिश्तेदारों के नाम से बेनामी प्रॉपर्टी खरीदी है। इसलिए इन्वेस्टिगेशन टीम प्रदीप वर्मा के रिश्तेदारों की प्रॉपर्टी की जानकारी जुटा रही है।
शनिवार को नगर निगम के सिटी प्लानर प्रदीप वर्मा को ईओडब्ल्यू ने पहली बार कार्रवाई करते हुए बिल्डर धर्मेंद्र भारद्वाज से कार में पांच लाख रुपये की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों पकड़ा था। आरोपित थाटीपुर पानी की टंकी के पास बने हुए व अर्धनिर्मित डुप्लेक्स पर थ्री-डी लगाकर 50 लाख रुपये की रिश्वत मांगी थी। रिश्वत के एवज में प्रदीप वर्मा 19 हजार स्क्वायर फीट भूमि पर निर्माण कार्य करने पर मदद करने का भरोसा बिल्डर को दे रहा था।
ईओडब्ल्यू ने निलंबित सिटी प्लानर के घर से बरामद फाइलों को पलटना शुरू कर दिया है। एसपी (ईओडब्ल्यू) अमित सिंह ने बताया कि अभी फाइलें स्वच्छता अभियान, अवैध तलघरों व अवैध कालोनियों से जुड़ी हैं। इसके अलावा सिटी प्लानर के खिलाफ चल रहीं जांचों से जुड़े दस्तावेज हैं। अभी फाइलों को खंगाला जा रहा है। ईओडब्ल्यू नगर निगम से चोरी गईं फाइलों को इन जब्त फाइलों में तलाश कर रही है।
प्रदीप वर्मा के बंगले में एक-एक चीज लग्जरी, भगवान के मंदिर में ऐसी लगाया है : प्रदीप वर्मा को रिश्वत लेते हुए पकड़ने के बाद ईओडब्ल्यू की एक टीम ने तत्काल इसके विनय नगर स्थित बंगले पर छापा मारा था। रिश्वतखोर के बंगले पर टीम को एशोआराम की हर चीज मिली थी। प्रदीप वर्मा ने रिश्वतखोरी के पैसों से घर में पूजा के लिए भव्य मंदिर बना रखा है। इस मंदिर में एसी लगा हुआ है। इसके अलावा कमरों में कीमती झूमर, बेश्कीमती फर्नीचर भी लगा हुआ है। फर्नीचर किस लकड़ी का बना हुआ है, इसकी जांच वन विभाग की टीम से कराकर उसकी कीमत का आकलन कराया जाएगा। प्रदीप वर्मा के बंगले की एक-एक कीमती चीज को सूचीबद्ध कर लिया है। अब मार्केट से इनकी कीमत पता की जा रही है।

प्रदीप वर्मा के रिश्तेदार ईओडब्ल्यू के रडार पर
ईओडबल्यू को अनुमान है कि टाइम कीपर से नगर निगम में भर्ती हुए वेतन व अन्य भत्तों के रूप में शासन से 50 लाख रुपये के लगभग मिले होंगे, लेकिन संपत्ति इससे कई गुना अधिक की है। ईओडब्ल्यू नगर निगम से पता लगा रही है कि प्रदीप वर्मा किन-किन पदों पर रहे हैं और कितना-कितना वेतन मिला है। ईओडब्ल्यू के अधिकारियों का मानना है कि आरोपित शातिर है। उसने अपने घर में अधिक पैसा और सोने-चांदी के गहने नहीं रखे हैं। ईओडब्ल्यू ने प्रदीप वर्मा के नजदीकी रिश्तेदारों की संपत्ति को रडार पर लिया है। टीम घर से जब्त बैंक पास बुक लेकर संबंधित बैंकों को पत्र लिखकर मंगलवार को जानकारी मांगेगी और लाकरों का भी पता लगाएगी। आयकर विभाग के रडार पर भी प्रदीप वर्मा आ गया है।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ग्वालियर:- स्मार्ट सिटी के द्वारा विकसित किये जा रहे डिजीटल म्यूजियम और प्लेनेटोरियम का काम अंतिम चरण में है, और जल्द ही इसके पूर्ण होने पर एक बडी सौगात ग्वालियर शहर को मिल सकेगी। यह बात स्मार्ट सिटी के कंट्रोल कमांड सेंटर में पत्रकारो से हुई अनौपचारिक चर्चा के दौरान ग्वालियर स्मार्ट सिटी सीईओ श्रीमती जयति सिंह ने कही। आज पत्रकारो से इस अनौपचारिक चर्चा का उद्देश्य डिजीटल म्यूजियम के बारे में जानकारी साझा कर महत्वपूर्ण सुझाव लेना था। ग्वालियर स्मार्ट सिटी सीईओ श्रीमती जयति सिंह नें जानकारी देते हुये बताया कि ग्वालियर स्मार्ट सिटी द्वारा बनाया जा रहा संग्रहालय और तारामंडल परियोजना में संग्रहालय का कार्य अंतिम चरण में है और जल्द ही इस ग्वालियर की जनता को समर्पित कर दिया जायेगा। श्रीमती सिंह ने बताया कि इस डिजीटल संग्रहालय में संगीत, चित्र कला, शिल्पकला, पारम्परिक परिधान आदि के विषय विशेषज्ञों बुद्धिजीवी, पत्रकार इतिहासकार सहीत समाज के विभिन्न वर्गो से राय और सुझाव लिये जा रहे है। ताकि शहर में बनने वाले डिजीटल म्यूजियम को भव्यता प्रदान की जा सके। श्रीमती सिंह नें जानकारी देते हुये बताया कि इस संग्रहालय में ग्वालियर की स्थापत्य शैली, वस्तु, परिधान, जीवनशैली, वाद्य यंत्र, आभूषण, हस्तशिल्प, सांस्कृतिक परंपरा, चित्रकारी सहीत कई विधाओ को आधुनिक तरिके से डिजिटली प्रदर्शित किया जायेगा। उल्लेखनीय है कि ग्वालियर संभाग की स्थानीय चितौरा कला, मधुमती कला तथा मृणुशिल्प जैसी कलाओं को प्रमुख रूप से इस संग्रहालय में प्रदर्शित किया जायेगा। ताकि लुप्त हो रही इन कलाओ को पुर्नजीवित किया जा सके। यहां पर आकर पर्यटक 16 गैलरियों में सजे ग्वालियर के इतिहास, यंत्र, आभूषण, हस्तशिल्प और अन्य बातो को अत्याधुनिक आईटी उपकरणो का प्रयोग करके देख सकेंगे। इस संग्रहालय में वर्चुअल रियलटी का समावेश भी किया जायेगा जिसके द्वारा सैलानी इतिहास की किसी स्थल की वास्तविकता को महसूस कर सकेगे। श्रीमती सिंह नें चर्चा के दौरान जानकारी देते हुये बताया कि ग्वालियर की ऐसी प्राचीन कला, संगीत, शिल्प इत्यादी जो कि अब लुप्त हो चुकी या लुप्त होने की कगार पर है उनके बारे में विषय विशेषज्ञयो की सहायता से पूरी जानकारी जुटाई जा रही है ताकि उन्हे इस संग्रहालय में शामिल किया जा सके। श्रीमती सिंह नें सभी से अपील की वह अपने क्षेत्र के बारे में ज्यादा से ज्यादा जानकारी दे ताकि ग्वालियर और ग्वालियर के आसपास की कला-संस्कृति को इस संग्रहालय में शामिल करने के साथ साथ स्थानीय कलाकारों को भी ज्यादा से ज्यादा इस परियोजना से जोडा जा सके। ताकि स्थानीय कला और कलाकारो को एक पहचान मिल सके औऱ अन्य लोग उनके बारे में जान सके। श्रीमती सिंह नें जानकारी देते हुये बताया कि विभिन्न प्रमोशन औऱ प्रतियोगिताओ के द्वारा भी स्मार्ट सिटी कार्पोरेशन द्वारो स्थानीय कलाकारों को मौका दिया जा रहा है ताकि वह इस संग्रहालय में अपनी अपनी भागीदारी दे सके। गौलतलब है कि इस भवन के पीछे के भाग में एक तारामंडल भी विकसित किया जा रहा है। इस केंद्र को ग्वालियर के पर्यटन मानचित्र में एक अहम बिंदु के रूप में माना जा रहा है। ग्वालियर व बुंदेलखंड संभाग में यह अपनी तरह का पहला केंद्र होगा तथा स्कूल के छात्रों को शिक्षित करने भी भूमिका निभाएगा। डिजीटल संग्रहालय और प्लेनेटोरियम प्रोजेक्ट की लागत लगभग 7 करोड रुपये है और इसे 3500 वर्गफीट एरिया में तैयार किया जा रहा है। श्रीमती सिंह ने स्मार्ट सिटी की अन्य परियोजनाओ की जानकारी देते हुये बताया कि ग्वालियर स्मार्ट सिटी द्वारा कई महत्वपूर्ण परियोजनाये जिनमें डिजीटल सेट्रल लाईब्रेरी, स्मार्ट वाँश रुम कैफे, प्लेग्राउंड, वेस्ट टू आर्ट, सेल्फी पाँइट सहीत ऐसी कई परियोजनाये अपने अंतिम चरण में है जिनके पूर्ण होने पर शहर में जल्द ही परिवर्तन देखने को मिलेगा। वही उन्होने शहर के सभी वर्गो से अपील करते हुये कहाँ कि विकास के लिये प्रशासनिक व्यवस्था का दायित्व जितना महत्वपूर्ण है उतना ही समाज के हर वर्ग का भी योगदान रहता है दोनो के संयुक्त प्रयास और समन्वयन से ही विकास संभव हो पाता है। स्मार्ट सिटी का पूरा प्रयास रहेगा कि विकास के लिये सभी विभागो के साथ बेहतर तालमेल बनाकर समन्वय के साथ कार्य किया जाये