रामजानकी मन्दिर भूमि को हड़पने के षड्यंत्र को सन्त समाज बर्दाश्त नहीं करेगा: अनूप मिश्रा

ग्वालियर। धर्म स्थल संरक्षण समिति श्री रामजानकी मन्दिर सरयू दास जी की बगिची पर अवैधानिक रूप से सन्तो के बिना अनुमति के मंदिर भूमि को हड़पने के षड्यंत्रो को सन्त समाज बर्दाश्त नही करेगा।
गंगादास की बड़ी शाला लक्ष्मीबाई कॉलोनी में पत्रकार वार्ता में धर्मस्थल संरक्षण समिति के अध्यक्ष श्री श्री 1008 महामंडलेश्वर श्री राम दास जी महाराज( दंदरौआ सरकार) एवं धर्मस्थल संरक्षण समिति सचिव स्वामी रामसेवक दास ( महंत बड़ी शाला) अनूप मिश्रा पूर्व कैबिनेट मंत्री, पूर्व विधायक रमेश अग्रवाल, मां कनकेश्वरी देवी भक्ति वेदांत संघ के सचिव पंडित महेश मुद्गल, अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा के अध्यक्ष सुरेंद्र सिंह तोमर, मध्य प्रदेश सनाढ्य सभा के अध्यक्ष किशन मुद्गल, धर्मस्थल संरक्षण समिति ग्वालियर मीडिया प्रभारी अशोक जैन, समाजसेवी पंडित रामबाबू कटारे उपस्थित थे। धर्मस्थल संरक्षण समिति ग्वालियर की ओर से पूर्व मंत्री अनूप मिश्रा ने बताया कि शहर रमटा पूरा मौजे में एक प्राचीन धार्मिक स्थान नूरगंज की शाला के नाम से स्थित है उसी परिसर में श्री रामजानकी मन्दिर है। जो कालांतर में सरयू दास की शाला के नाम से विख्यात हुआ। गुरु शिष्य परम्पराओ के तहत सतत स्थान का विस्तार होता गया है, इसी श्रंखला में सन्त निम्नानुसार है, श्री श्रद्धेय कैलाशवासी सन्त श्री रत्नदास जी, सन्त श्री प्रेमदास जी, सन्त श्री लक्ष्मीदास जी, सन्त श्री मोहनदास जी, सन्त श्री रामदास जी, ततपश्चात सरयू दास, दयालदास, हीरादास तथा हरिदास। सभी वर्तमान में स्वर्गवासी हो चुके है वर्तमान में हरिदास के शिष्य कमलदास है जो अभी सरयू दास की बगीची थाटीपुर में सेवारत है सन 2011- 12 में सन्त परम्परा के तहत सभी ग्वालियर चम्बल सम्भाग के सन्तो ने मिलकर सर्व सम्मति से इस मठ की महंताई के लिए श्री श्री 1008 बाबा रामदास महाराज दंदरौआ महाराज को उक्त मन्दिर सुपुर्द किया और स्थान का महंत घोषित किया। यह उक्त मठ मन्दिर रामजानकी ट्रस्ट की परंपरा है। प्राचीन काल से ही ग्वालियर रियासत द्वारा रामजानकी मन्दिर से अनेकों ज़मीन मौजा रमटापूरा मौजा गोसुपुर(गांधी रोड़) महलगांव, ग्राम एराया, कछौआ, अकबाई मौजे इत्यादि में मन्दिर हित में लगाई गई जो माफी औक़ाफ़ विभाग में आयुक्त ग्वालियर के अधीन होकर रेकॉर्ड में सम्मिलित है।
पूर्व मंत्री अनूप मिश्रा ने बताया कि ग्वालियर का प्रबुद्ध नागरिक सभी संत महात्माओं को साथ लेकर ग्वालियर चंबल संभाग में ऐतिहासिक स्थलों एवं धार्मिक स्थलों को अतिक्रमण से मुक्त कराने का शीघ्र ही अभियान चलाया जाएगा हिंदू धर्म के किसी भी मंदिर या मठ पर किसी को कब्जा नहीं करने दिया जाएगा ऐसे किसी भी प्रयास का ग्वालियर का प्रबुद्ध नागरिक कड़ा विरोध करेगा, धर्मस्थल संरक्षण समिति ग्वालियर ने बताया कि महंत सरयुदास के बाद श्री दयाल दस के उपरांत महंत श्री हरिदास एवं अन्य सन्त लोग रहे। सन 1969-70 में श्री हरिदास ने एक लोकन्यास ट्रस्ट का( रामजानकी मन्दिर) का गठन किया। सन 1970 में न्यास के अध्यक्ष वे स्वयं थे व सन्त श्री हरिदास जी उपाध्यक्ष रहे। न्यास के पंजिकृत कार्यालय रमटापूरा में रहा है। गांधी रोड़ की भूमि सरयुदास की बगीची के नाम से जानी जाती है वहा महंत सरयुदास जी भगवान शनि मन्दिर, साधना गुफा, पछि विहार, गौशाला, बगीची एवं सन्तो की समाधि का निर्माण कराया।
धर्म स्थल संरक्षण समिति ग्वालियर ने बताया कि उक्त मन्दिर न्यास का गठन मन्दिर की पूजा अर्चना एवं संरक्षण तथा सम्पत्तियो की सुरक्षा तथा धार्मिक कार्य अनवरत गति से चलते रहे इसी उद्देशय से सन्तो ने उक्त ट्रस्ट के गठन किया था। साधु संत ही मन्दिर के मुखिया होते रहे। सन 2011 12 में सम्पूर्ण सन्त समाज ने एकत्रित होकर श्री दंदरौआ महाराज जी को मन्दिर का महंत घोषित किया एवं मन्दिर की पूजा अर्चना पूर्वत निरन्तर प्रारम्भ रही। वर्तमान में कुछ समय पूर्व श्री रामजानकी मन्दिर न्यास के नियम उद्देश्य एवं परम्पराओ को दरकिनार करते हुए जिला प्रशासन ने नवीन पुनर्गठित ट्रस्ट में जिन लोगो को शामिल किया वह इस योग्य नही है तथा ट्रस्ट के जो बाइलॉज है उसके भी विपरीत है। ट्रस्ट के गठन केवल सन्तो की सहमति से ही किया जा सकता है। इस भूमि ट्रस्ट बगीची पर नव नियुक्त ट्रस्टियो ने मन्दिर निर्माण की घोषणा 14 जनवरी 2021 को भूमि पूजन के साथ करने की है जो पूर्णतः अवैधानिक है। ऐसे सार्वजनिक स्थल को सील करने का प्रयास एवं ताला बन्दी का बगिया परिसर में करने का प्रयास अवैधानिक है।
धर्म स्थल संरक्षण समिति ग्वालियर ने बताया कि नवनिर्मित ट्रस्टीजन में कोई भी व्यक्ति न ही सन्त परम्परा का है न ही इस योग्य है। ज़िला प्रशासन ने ट्रस्ट के पुनर्गठन के विषय मे कोई भी आमजन व परम्परा के के साधु सन्त का निजीतौर पर या समाचार पत्र के माध्यम से किसी भी प्रकार की सूचना नही दी गयी। इस कारण कथित नवीन ट्रस्ट के गठन पूर्णतः अनुचित उद्देश्यों के लिए किया गया है अर्थात इनकी मंशा पर पूरे सन्त समाज को संदेह है जिसे सभी धर्मप्रेमी एवं श्रद्धालु एवं सन्त समाज मे रोष व्याप्त है। धर्म स्थल संरक्षण समिति ग्वालियर ने कहा कि इसमें हस्तक्षेप कर ट्रस्ट के पुनर्गठन के सम्बंध में कई गयी अवैधानिक कार्यवाही को समाप्त करके बगीची की भूमि, समाधिस्थल, शनी मन्दिर, पछि विहार, आदि को संरक्षण देकर यथावत सन्तो को सौंपे जाने का आदेश देने का कष्ट करें एवं 14 जनवरी को प्रस्तावित भूमि पूजन कार्यक्रम को तत्काल निरस्त करने का आदेश प्रदान करे। अन्यथा महानगर का सन्त समाज , सभी धर्म प्रेमी एवं प्रबुद्ध नागरिक जन होने वाले भूमि पूजन का कड़ा विरोध करेंगे। सभी पत्रकार मित्रों को भूमि संबंधित एवं संत परंपराओं में हुए निर्णय की सत्यापित प्रतिया दी।
संवाददाता सम्मेलन में विभिन्न सामाजिक संगठनों एवं राजनीति दलो के वरिष्ठजन पूर्व विधायक रामबरन सिंह गुर्जर, अशोक शर्मा, अभय पापरीकर, डॉ हरी मोहन पुरोहित, राम नारायण मिश्रा, हरिदास अग्रवाल, महेंद्र सिंह सेंगर, रामकुमार सिंह सिकरवार, जगदीश प्रसाद शर्मा, सुरेंद्र सिंह परमार चाचू, आर के शुक्ला, कौशल वाजपेई, आचार्य अंबिका प्रसाद पचौरी, विजय कबजू, अशोक पटसारिया, राम कुमार शर्मा, नरेश कटारे, दिनेश दीक्षित, शशीकांत दिक्षित, श्याम सिंह तोमर, रामनिवास श्रीवास्तव, सुधीर दुबे ,मनोज अग्रवाल, अनिल कुमार चतुर्वेदी, नरेंद्र कुमार शर्मा, डॉक्टर सत्येंद्र त्रिवेदी, सुनील पटेरिया, कृष्ण कांत शर्मा, पंडित आदर्श दीक्षित, महेंद्र गुप्ता मुख्य रूप से उपस्थित थे।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ग्वालियर:- स्मार्ट सिटी के द्वारा विकसित किये जा रहे डिजीटल म्यूजियम और प्लेनेटोरियम का काम अंतिम चरण में है, और जल्द ही इसके पूर्ण होने पर एक बडी सौगात ग्वालियर शहर को मिल सकेगी। यह बात स्मार्ट सिटी के कंट्रोल कमांड सेंटर में पत्रकारो से हुई अनौपचारिक चर्चा के दौरान ग्वालियर स्मार्ट सिटी सीईओ श्रीमती जयति सिंह ने कही। आज पत्रकारो से इस अनौपचारिक चर्चा का उद्देश्य डिजीटल म्यूजियम के बारे में जानकारी साझा कर महत्वपूर्ण सुझाव लेना था। ग्वालियर स्मार्ट सिटी सीईओ श्रीमती जयति सिंह नें जानकारी देते हुये बताया कि ग्वालियर स्मार्ट सिटी द्वारा बनाया जा रहा संग्रहालय और तारामंडल परियोजना में संग्रहालय का कार्य अंतिम चरण में है और जल्द ही इस ग्वालियर की जनता को समर्पित कर दिया जायेगा। श्रीमती सिंह ने बताया कि इस डिजीटल संग्रहालय में संगीत, चित्र कला, शिल्पकला, पारम्परिक परिधान आदि के विषय विशेषज्ञों बुद्धिजीवी, पत्रकार इतिहासकार सहीत समाज के विभिन्न वर्गो से राय और सुझाव लिये जा रहे है। ताकि शहर में बनने वाले डिजीटल म्यूजियम को भव्यता प्रदान की जा सके। श्रीमती सिंह नें जानकारी देते हुये बताया कि इस संग्रहालय में ग्वालियर की स्थापत्य शैली, वस्तु, परिधान, जीवनशैली, वाद्य यंत्र, आभूषण, हस्तशिल्प, सांस्कृतिक परंपरा, चित्रकारी सहीत कई विधाओ को आधुनिक तरिके से डिजिटली प्रदर्शित किया जायेगा। उल्लेखनीय है कि ग्वालियर संभाग की स्थानीय चितौरा कला, मधुमती कला तथा मृणुशिल्प जैसी कलाओं को प्रमुख रूप से इस संग्रहालय में प्रदर्शित किया जायेगा। ताकि लुप्त हो रही इन कलाओ को पुर्नजीवित किया जा सके। यहां पर आकर पर्यटक 16 गैलरियों में सजे ग्वालियर के इतिहास, यंत्र, आभूषण, हस्तशिल्प और अन्य बातो को अत्याधुनिक आईटी उपकरणो का प्रयोग करके देख सकेंगे। इस संग्रहालय में वर्चुअल रियलटी का समावेश भी किया जायेगा जिसके द्वारा सैलानी इतिहास की किसी स्थल की वास्तविकता को महसूस कर सकेगे। श्रीमती सिंह नें चर्चा के दौरान जानकारी देते हुये बताया कि ग्वालियर की ऐसी प्राचीन कला, संगीत, शिल्प इत्यादी जो कि अब लुप्त हो चुकी या लुप्त होने की कगार पर है उनके बारे में विषय विशेषज्ञयो की सहायता से पूरी जानकारी जुटाई जा रही है ताकि उन्हे इस संग्रहालय में शामिल किया जा सके। श्रीमती सिंह नें सभी से अपील की वह अपने क्षेत्र के बारे में ज्यादा से ज्यादा जानकारी दे ताकि ग्वालियर और ग्वालियर के आसपास की कला-संस्कृति को इस संग्रहालय में शामिल करने के साथ साथ स्थानीय कलाकारों को भी ज्यादा से ज्यादा इस परियोजना से जोडा जा सके। ताकि स्थानीय कला और कलाकारो को एक पहचान मिल सके औऱ अन्य लोग उनके बारे में जान सके। श्रीमती सिंह नें जानकारी देते हुये बताया कि विभिन्न प्रमोशन औऱ प्रतियोगिताओ के द्वारा भी स्मार्ट सिटी कार्पोरेशन द्वारो स्थानीय कलाकारों को मौका दिया जा रहा है ताकि वह इस संग्रहालय में अपनी अपनी भागीदारी दे सके। गौलतलब है कि इस भवन के पीछे के भाग में एक तारामंडल भी विकसित किया जा रहा है। इस केंद्र को ग्वालियर के पर्यटन मानचित्र में एक अहम बिंदु के रूप में माना जा रहा है। ग्वालियर व बुंदेलखंड संभाग में यह अपनी तरह का पहला केंद्र होगा तथा स्कूल के छात्रों को शिक्षित करने भी भूमिका निभाएगा। डिजीटल संग्रहालय और प्लेनेटोरियम प्रोजेक्ट की लागत लगभग 7 करोड रुपये है और इसे 3500 वर्गफीट एरिया में तैयार किया जा रहा है। श्रीमती सिंह ने स्मार्ट सिटी की अन्य परियोजनाओ की जानकारी देते हुये बताया कि ग्वालियर स्मार्ट सिटी द्वारा कई महत्वपूर्ण परियोजनाये जिनमें डिजीटल सेट्रल लाईब्रेरी, स्मार्ट वाँश रुम कैफे, प्लेग्राउंड, वेस्ट टू आर्ट, सेल्फी पाँइट सहीत ऐसी कई परियोजनाये अपने अंतिम चरण में है जिनके पूर्ण होने पर शहर में जल्द ही परिवर्तन देखने को मिलेगा। वही उन्होने शहर के सभी वर्गो से अपील करते हुये कहाँ कि विकास के लिये प्रशासनिक व्यवस्था का दायित्व जितना महत्वपूर्ण है उतना ही समाज के हर वर्ग का भी योगदान रहता है दोनो के संयुक्त प्रयास और समन्वयन से ही विकास संभव हो पाता है। स्मार्ट सिटी का पूरा प्रयास रहेगा कि विकास के लिये सभी विभागो के साथ बेहतर तालमेल बनाकर समन्वय के साथ कार्य किया जाये