जीवन जीने की कला सिखाती है श्रीरामकथा: माया सिंह


ग्वालियर। ददरौआ धाम भक्त मण्डल द्वारा ददरौआ धाम में चल रही नौ दिवसीय श्रीराम यज्ञ श्रीराम कथा का आज समापन हुआ। जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में पूर्व मंत्री श्रीमती माया सिंह एवं पूर्व मंत्री ध्यानेन्द्र सिंह उपस्थित रहे। श्रीराम कथा में शामिल होने पहुची पूर्व मंत्री श्रीमती माया सिंह ने कहा कि श्रीराम कथा लोगों को जीवन जीने की कला सिखाती है। दुर्लभ मानव शरीर पाने के बाद जीवन जीने के लिये लोगों को श्रीराम कथा से जुड़ने की आवश्यकता है। गीता, योग का ग्रंथ है और श्रीमद्भागवत वियोग का ग्रंथ है, लेकिन श्रीरामचरितमानस जीवन में प्रयोग का ग्रंथ है। इस तरह के आयोजन हमें प्रेरणा देते हैं। वहीं कथा वाचक श्री सच्चिदानंद जी महाराज ने अंतिम दिवस श्रीराम चन्द्र जी के राजतिलक की कथा सुनाई। इस अवसर पर पूर्व मंत्री श्रीमती माया सिंह ने भगवान श्रीराम का राजतिलक कर आशीर्वाद प्राप्त किया और श्रीमती अंजू शर्मा द्वारा श्रीमती माया सिंह के हाथों भक्त मण्डली को शाॅल-श्रीफल भेंटकर सम्मानित किया गया। कार्यक्रम के व्यवस्थापक पं.कृष्णकान्त तिवारी ने नौ दिवसीय श्रीराम कथा एवं श्री रामयज्ञ के समस्त सदस्यों का श्रीफल से सम्मान व आभार व्यक्त किया। इस दौरान मण्डल अध्यक्ष रामप्रकाश परमार, पारीक्षित श्रीसुरेश चन्द्र गोस्वामी, पूर्व पार्षद जबर सिंह, रेखा त्रिपाठी, व्यंजना मिश्रा, समाजसेवी संजीव रजक, समाजसेवी एवं उप पारीक्षित गौरव योगी, ददरौआ भक्त मण्डल के अध्यक्ष अंकुर श्रीवास, युवा समाजसेवी आकाश कौरव, पंकज केन, नरसिम्हा केन, गिर्राज वर्मा, अभिषेक वर्मा, कोलू गुर्जर, रामू वर्मा एवं हजारों की संख्या में भक्त मण्डल व व्यवस्था टीम उपस्थित रही।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राहुल की साहसिक पारी से जूनियर टीम ने सीनियर को दी शिकस्त